mujhe sahal ho gaeein manzilen vo hawa ke rukh bhi badal gaye | मुझे सहल हो गईं मंज़िलें वो हवा के रुख़ भी बदल गए  - Majrooh Sultanpuri

mujhe sahal ho gaeein manzilen vo hawa ke rukh bhi badal gaye
tira haath haath mein aa gaya ki charaagh raah mein jal gaye

vo lajaaye mere sawaal par ki utha sake na jhuka ke sar
udri zulf chehre pe is tarah ki shabon ke raaz machal gaye

wahi baat jo vo na kah sake mere sher-o-naghma mein aa gai
wahi lab na main jinhen choo saka qadh-e-sharaab mein dhal gaye

wahi aastaan hai wahi jabeen wahi ashk hai wahi aasteen
dil-e-zaar tu bhi badal kahi ki jahaan ke taur badal gaye

tujhe chashm-e-mast pata bhi hai ki shabaab garmi-e-bazm hai
tujhe chashm-e-mast khabar bhi hai ki sab aabgeene pighal gaye

mere kaam aa gaeein aakhirsh yahi kaavishein yahi gardishein
badhin is qadar meri manzilen ki qadam ke khaar nikal gaye

wahi aastaan hai wahi jabeen wahi ashk hai wahi aasteen
dil-e-zaar tu bhi badal kahi ki jahaan ke taur badal gaye

tujhe chashm-e-mast pata bhi hai ki shabaab garmi-e-bazm hai
tujhe chashm-e-mast khabar bhi hai ki sab aabgeene pighal gaye

mere kaam aa gaeein aakhirsh yahi kaavishein yahi gardishein
badhin is qadar meri manzilen ki qadam ke khaar nikal gaye

मुझे सहल हो गईं मंज़िलें वो हवा के रुख़ भी बदल गए 
तिरा हाथ हाथ में आ गया कि चराग़ राह में जल गए 

वो लजाए मेरे सवाल पर कि उठा सके न झुका के सर 
उड़ी ज़ुल्फ़ चेहरे पे इस तरह कि शबों के राज़ मचल गए 

वही बात जो वो न कह सके मिरे शेर-ओ-नग़्मा में आ गई 
वही लब न मैं जिन्हें छू सका क़दह-ए-शराब में ढल गए 

वही आस्ताँ है वही जबीं वही अश्क है वही आस्तीं 
दिल-ए-ज़ार तू भी बदल कहीं कि जहाँ के तौर बदल गए 

तुझे चश्म-ए-मस्त पता भी है कि शबाब गर्मी-ए-बज़्म है 
तुझे चश्म-ए-मस्त ख़बर भी है कि सब आबगीने पिघल गए 

मिरे काम आ गईं आख़िरश यही काविशें यही गर्दिशें 
बढ़ीं इस क़दर मिरी मंज़िलें कि क़दम के ख़ार निकल गए 

वही आस्ताँ है वही जबीं वही अश्क है वही आस्तीं 
दिल-ए-ज़ार तू भी बदल कहीं कि जहाँ के तौर बदल गए 

तुझे चश्म-ए-मस्त पता भी है कि शबाब गर्मी-ए-बज़्म है 
तुझे चश्म-ए-मस्त ख़बर भी है कि सब आबगीने पिघल गए 

मिरे काम आ गईं आख़िरश यही काविशें यही गर्दिशें 
बढ़ीं इस क़दर मिरी मंज़िलें कि क़दम के ख़ार निकल गए 

- Majrooh Sultanpuri
0 Likes

Environment Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Majrooh Sultanpuri

As you were reading Shayari by Majrooh Sultanpuri

Similar Writers

our suggestion based on Majrooh Sultanpuri

Similar Moods

As you were reading Environment Shayari Shayari