karb chehron pe sajaate hue mar jaate hain | कर्ब चेहरों पे सजाते हुए मर जाते हैं - Malikzada Javed

karb chehron pe sajaate hue mar jaate hain
ham watan chhod ke jaate hue mar jaate hain

zindagi ek kahaani ke siva kuchh bhi nahin
log kirdaar nibhaate hue mar jaate hain

umr-bhar jin ko mayassar nahin hoti manzil
khaak raahon mein udaate hue mar jaate hain

kuchh parinde hain jo sukhe hue daryaon se
ilm ki pyaas bujhaate hue mar jaate hain

zinda rahte hain kai log musaafir ki tarah
jo safar mein kahi jaate hue mar jaate hain

un ka paighaam mila karta hai ghairoon se mujhe
vo mere paas khud aate hue mar jaate hain

jin ko apnon se tavajjoh nahin milti jaaved
haath ghairoon se milaate hue mar jaate hain

कर्ब चेहरों पे सजाते हुए मर जाते हैं
हम वतन छोड़ के जाते हुए मर जाते हैं

ज़िंदगी एक कहानी के सिवा कुछ भी नहीं
लोग किरदार निभाते हुए मर जाते हैं

उम्र-भर जिन को मयस्सर नहीं होती मंज़िल
ख़ाक राहों में उड़ाते हुए मर जाते हैं

कुछ परिंदे हैं जो सूखे हुए दरियाओं से
इल्म की प्यास बुझाते हुए मर जाते हैं

ज़िंदा रहते हैं कई लोग मुसाफ़िर की तरह
जो सफ़र में कहीं जाते हुए मर जाते हैं

उन का पैग़ाम मिला करता है ग़ैरों से मुझे
वो मिरे पास ख़ुद आते हुए मर जाते हैं

जिन को अपनों से तवज्जोह नहीं मिलती 'जावेद'
हाथ ग़ैरों से मिलाते हुए मर जाते हैं

- Malikzada Javed
2 Likes

Manzil Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Malikzada Javed

As you were reading Shayari by Malikzada Javed

Similar Writers

our suggestion based on Malikzada Javed

Similar Moods

As you were reading Manzil Shayari Shayari