dhoonda na paaiye jo is waqt mein sau zar hai | ढूँडा न पाइए जो इस वक़्त में सौ ज़र है - Meer Taqi Meer

dhoonda na paaiye jo is waqt mein sau zar hai
phir chaah jis ki mutlaq hai hi nahin hunar hai

har-dam qadam ko apne rakh ehtiyaat se yaa
ye kaar-gaah saari dukaan-e-sheeshaagar hai

dhaaya jinno ne us ko un par kharaabi aayi
jaana gaya usi se dil bhi kaso ka ghar hai

tujh bin shakeb kab tak be-faaida hoon naalaan
mujh naala kash ke to ai fariyaad-ras kidhar hai

said-afgano hamaare dil ko jigar ko dekho
ik teer ka hadf hai ik teg ka sipar hai

ahl-e-zamaana rahte ik taur par nahin hain
har aan martabe se apne unhen safar hai

kaafi hai mehr qaateel mahzar pe khun ke mere
phir jis jagah ye jaave us ja hi mo'tabar hai

teri gali se bach kar kyun mehr-o-mah na niklen
har koi jaanta hai is raah mein khatra hai

ve din gaye ki aansu rote the meer ab to
aankhon mein lakht-e-dil hai ya paara-e-jigar hai

ढूँडा न पाइए जो इस वक़्त में सौ ज़र है
फिर चाह जिस की मुतलक़ है ही नहीं हुनर है

हर-दम क़दम को अपने रख एहतियात से याँ
ये कार-गाह सारी दुक्कान-ए-शीशागर है

ढाया जिन्नों ने उस को उन पर ख़राबी आई
जाना गया उसी से दिल भी कसो का घर है

तुझ बिन शकेब कब तक बे-फ़ाएदा हूँ नालाँ
मुझ नाला कश के तो ऐ फ़रियाद-रस किधर है

सैद-अफ़गनो हमारे दिल को जिगर को देखो
इक तीर का हदफ़ है इक तेग़ का सिपर है

अहल-ए-ज़माना रहते इक तौर पर नहीं हैं
हर आन मर्तबे से अपने उन्हें सफ़र है

काफ़ी है महर क़ातिल महज़र पे ख़ूँ के मेरे
फिर जिस जगह ये जावे उस जा ही मो'तबर है

तेरी गली से बच कर क्यूँ मेहर-ओ-मह न निकलें
हर कोई जानता है इस राह में ख़तर है

वे दिन गए कि आँसू रोते थे 'मीर' अब तो
आँखों में लख़्त-ए-दिल है या पारा-ए-जिगर है

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Aawargi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Aawargi Shayari Shayari