ham ne jaana tha sukhun honge zabaan par kitne | हम ने जाना था सुख़न होंगे ज़बाँ पर कितने - Meer Taqi Meer

ham ne jaana tha sukhun honge zabaan par kitne
par qalam haath jo aayi likhe daftar kitne

main ne is us sannaa se sar kheecha hai
ki har ik kooche mein jis ke the hunar-var kitne

kishwar-e-ishq ko aabaad na dekha ham ne
har gali-kooche mein ujarr pade the ghar kitne

aah nikli hai ye kis ki havas sair-e-bahaar
aate hain baagh mein aawaara hue par kitne

dekhiyo panja-e-mizgaan ki tak aatish-dasti
har sehar khaak mein milte hain dar-e-tar kitne

kab talak ye dil sad-paara nazar mein rakhiye
us par aankhen hi siye rahte hain dilbar kitne

umr guzri ki nahin do aadam se koi
jis taraf dekhiye arse mein hain ab khar kitne

tu hai bechaara gada meer tira kiya mazkoor
mil gaye khaak mein yaa sahab afsar kitne

हम ने जाना था सुख़न होंगे ज़बाँ पर कितने
पर क़लम हाथ जो आई लिखे दफ़्तर कितने

मैं ने इस उस सन्नाअ से सर खींचा है
कि हर इक कूचे में जिस के थे हुनर-वर कितने

किश्वर-ए-इश्क़ को आबाद न देखा हम ने
हर गली-कूचे में ऊजड़ पड़े थे घर कितने

आह निकली है ये किस की हवस सैर-ए-बहार
आते हैं बाग़ में आवारा हुए पर कितने

देखियो पंजा-ए-मिज़्गाँ की टक आतिश-दस्ती
हर सहर ख़ाक में मिलते हैं दर-ए-तर कितने

कब तलक ये दिल सद-पारा नज़र में रखिए
उस पर आँखें ही सिए रहते हैं दिलबर कितने

उम्र गुज़री कि नहीं दो आदम से कोई
जिस तरफ़ देखिए अर्से में हैं अब ख़र कितने

तू है बेचारा गदा 'मीर' तिरा किया मज़कूर
मिल गए ख़ाक में याँ साहब अफ़सर कितने

- Meer Taqi Meer
1 Like

Nigaah Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Nigaah Shayari Shayari