kis husn se kahoon main us ki khush-akhtari ki | किस हुस्न से कहूँ मैं उस की ख़ुश-अख़तरी की - Meer Taqi Meer

kis husn se kahoon main us ki khush-akhtari ki
is maah-roo ke aage kya taab mushtari ki

rakhna na tha qadam yaa jun baad be-taammul
sair is jahaan ki rahraw par tu ne sarsari ki

shubhaa bahaal sag mein ik umr sirf ki hai
mat pooch in ne mujh se jo aadmi-gari ki

paaye gul us chaman mein chhodaa gaya na ham se
sar par hamaare ab ke mannat hai be-paree ki

pesha to ek hi tha us ka hamaara lekin
majnoon ke taaleon ne shohrat mein yaavari ki

girye se daag-e-seena taaza hue hain saare
ye kisht-e-khushk tu ne ai chashm phir hari ki

ye daur to muaafiq hota nahin magar ab
rakhiye bina-e-taaza is charkh-e-chambri ki

khooban tumhaari khoobi taa-chand naql kariye
ham ranja-khaatiron ki kya khoob dilbari ki

ham se jo meer ud kar aflaak-e-charkh mein hain
un khaak mein maloo ki kahe ko hamsari ki

किस हुस्न से कहूँ मैं उस की ख़ुश-अख़तरी की
इस माह-रू के आगे क्या ताब मुश्तरी की

रखना न था क़दम याँ जूँ बाद बे-ताम्मुल
सैर इस जहाँ की रहरव पर तू ने सरसरी की

शुब्हा बहाल सग में इक उम्र सिर्फ़ की है
मत पूछ इन ने मुझ से जो आदमी-गरी की

पाए गुल उस चमन में छोड़ा गया न हम से
सर पर हमारे अब के मन्नत है बे-परी की

पेशा तो एक ही था उस का हमारा लेकिन
मजनूँ के तालेओं ने शोहरत में यावरी की

गिर्ये से दाग़-ए-सीना ताज़ा हुए हैं सारे
ये किश्त-ए-ख़ुश्क तू ने ऐ चश्म फिर हरी की

ये दौर तो मुआफ़िक़ होता नहीं मगर अब
रखिए बिना-ए-ताज़ा इस चर्ख़-ए-चम्बरी की

ख़ूबाँ तुम्हारी ख़ूबी ता-चंद नक़्ल करिए
हम रंजा-ख़ातिरों की क्या ख़ूब दिलबरी की

हम से जो 'मीर' उड़ कर अफ़्लाक-ए-चर्ख़ में हैं
उन ख़ाक में मलूँ की काहे को हमसरी की

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Duniya Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Duniya Shayari Shayari