aaye hain meer kaafir ho kar khuda ke ghar mein | आए हैं 'मीर' काफ़िर हो कर ख़ुदा के घर में - Meer Taqi Meer

aaye hain meer kaafir ho kar khuda ke ghar mein
peshaani par hai qashka zunnar hai kamar mein

naazuk badan hai kitna vo shokh-chashm dilbar
jaan us ke tan ke aage aati nahin nazar mein

seene mein teer us ke toote hain be-nihaayat
suraakh pad gaye hain saare mere jigar mein

aainda shaam ko hum roya kudha karenge
mutlaq asar na dekha naalidan-e-sehar mein

be-sudh pada rahoon hoon us mast-e-naaz bin main
aata hai hosh mujh ko ab to pahar pahar mein

seerat se guftugoo hai kya mo'tabar hai soorat
hai ek sookhi lakdi jo boo na ho agar mein

ham-saaya-e-mughaan mein muddat se hoon chunaanche
ik sheera-khaane ki hai deewaar mere ghar mein

ab subh o shaam shaayad girye pe rang aave
rehta hai kuch jhamkata khoonaab chashm-e-tar mein

aalam mein aab-o-gil ke kyunkar nibaah hoga
asbaab gir pada hai saara mera safar mein

आए हैं 'मीर' काफ़िर हो कर ख़ुदा के घर में
पेशानी पर है क़श्क़ा ज़ुन्नार है कमर में

नाज़ुक बदन है कितना वो शोख़-चश्म दिलबर
जान उस के तन के आगे आती नहीं नज़र में

सीने में तीर उस के टूटे हैं बे-निहायत
सुराख़ पड़ गए हैं सारे मिरे जिगर में

आइंदा शाम को हम रोया कुढ़ा करेंगे
मुतलक़ असर न देखा नालीदन-ए-सहर में

बे-सुध पड़ा रहूँ हूँ उस मस्त-ए-नाज़ बिन मैं
आता है होश मुझ को अब तो पहर पहर में

सीरत से गुफ़्तुगू है क्या मो'तबर है सूरत
है एक सूखी लकड़ी जो बू न हो अगर में

हम-साया-ए-मुग़ाँ में मुद्दत से हूँ चुनाँचे
इक शीरा-ख़ाने की है दीवार मेरे घर में

अब सुब्ह ओ शाम शायद गिर्ये पे रंग आवे
रहता है कुछ झमकता ख़ूनाब चश्म-ए-तर में

आलम में आब-ओ-गिल के क्यूँकर निबाह होगा
अस्बाब गिर पड़ा है सारा मिरा सफ़र में

- Meer Taqi Meer
1 Like

Travel Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Travel Shayari Shayari