gham us ko saari raat sunaaya to kya hua | ग़म उस को सारी रात सुनाया तो क्या हुआ - Meer Taqi Meer

gham us ko saari raat sunaaya to kya hua
ya roz uth ke sar ko firayaa to kya hua

un ne to mujh ko jhoote bhi poocha na ek baar
main ne use hazaar jataaya to kya hua

khwaahan nahin vo kyun hi main apni taraf se yun
dil de ke us ke haath bikaaya to kya hua

ab sai kar sipahr ki mere mooe gaye
us ka mizaaj mehr pe aaya to kya hua

mat ranja kar kisi ko ki apne to e'tiqaad
dil dhaaye kar jo ka'ba banaya to kya hua

main said-e-naatwaan bhi tujhe kya karunga yaad
zalim ik aur teer lagaaya to kya hua

kya kya duaaein maangi hain khilwat mein shaikh yun
zaahir jahaan se haath uthaya to kya hua

vo fikr kar ki chaak-e-jigar paave iltiyaam
naaseh jo tu ne jaama sulaaya to kya hua

jeete to meer un ne mujhe daagh hi rakha
phir gor par charaagh jalaya to kya hua

ग़म उस को सारी रात सुनाया तो क्या हुआ
या रोज़ उठ के सर को फिराया तो क्या हुआ

उन ने तो मुझ को झूटे भी पूछा न एक बार
मैं ने उसे हज़ार जताया तो क्या हुआ

ख़्वाहाँ नहीं वो क्यूँ ही मैं अपनी तरफ़ से यूँ
दिल दे के उस के हाथ बिकाया तो क्या हुआ

अब सई कर सिपहर कि मेरे मूए गए
उस का मिज़ाज मेहर पे आया तो क्या हुआ

मत रंजा कर किसी को कि अपने तो ए'तिक़ाद
दिल ढाए कर जो का'बा बनाया तो क्या हुआ

मैं सैद-ए-नातवाँ भी तुझे क्या करूँगा याद
ज़ालिम इक और तीर लगाया तो क्या हुआ

क्या क्या दुआएँ माँगी हैं ख़ल्वत में शैख़ यूँ
ज़ाहिर जहाँ से हाथ उठाया तो क्या हुआ

वो फ़िक्र कर कि चाक-ए-जिगर पावे इल्तियाम
नासेह जो तू ने जामा सुलाया तो क्या हुआ

जीते तो 'मीर' उन ने मुझे दाग़ ही रक्खा
फिर गोर पर चराग़ जलाया तो क्या हुआ

- Meer Taqi Meer
1 Like

Dard Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Dard Shayari Shayari