kya haqeeqat kahoon ki kya hai ishq | क्या हक़ीक़त कहूँ कि क्या है इश्क़ - Meer Taqi Meer

kya haqeeqat kahoon ki kya hai ishq
haq-shanaason ke haan khuda hai ishq

dil laga ho to jee jahaan se utha
maut ka naam pyaar ka hai ishq

aur tadbeer ko nahin kuch dakhl
ishq ke dard ki dava hai ishq

kya dubaaya muheet mein gham ke
hum ne jaana tha aashna hai ishq

ishq se ja nahin koi khaali
dil se le arsh tak bhara hai ishq

kohkan kya pahaad kaatega
parde mein zor-aazma hai ishq

ishq hai ishq karne waalon ko
kaisa kaisa bahm kiya hai ishq

kaun maqsad ko ishq bin pahuncha
aarzoo ishq muddaa hai ishq

meer marna pade hai khooban par
ishq mat kar ki bad bala hai ishq

क्या हक़ीक़त कहूँ कि क्या है इश्क़
हक़-शनासों के हाँ ख़ुदा है इश्क़

दिल लगा हो तो जी जहाँ से उठा
मौत का नाम प्यार का है इश्क़

और तदबीर को नहीं कुछ दख़्ल
इश्क़ के दर्द की दवा है इश्क़

क्या डुबाया मुहीत में ग़म के
हम ने जाना था आश्ना है इश्क़

इश्क़ से जा नहीं कोई ख़ाली
दिल से ले अर्श तक भरा है इश्क़

कोहकन क्या पहाड़ काटेगा
पर्दे में ज़ोर-आज़मा है इश्क़

इश्क़ है इश्क़ करने वालों को
कैसा कैसा बहम किया है इश्क़

कौन मक़्सद को इश्क़ बिन पहुँचा
आरज़ू इश्क़ मुद्दआ है इश्क़

'मीर' मरना पड़े है ख़ूबाँ पर
इश्क़ मत कर कि बद बला है इश्क़

- Meer Taqi Meer
4 Likes

Ishq Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Ishq Shayari Shayari