naqqaash dekh to main kya naqsh-e-yaar kheecha | नक़्क़ाश देख तो मैं क्या नक़्श-ए-यार खींचा - Meer Taqi Meer

naqqaash dekh to main kya naqsh-e-yaar kheecha
us shokh kam-numa ka nit intizaar kheecha

rasm-e-qalam-rav-e-ishq mat pooch kuchh ki naahak
ekon ki khaal kheenchi ekon ko daar kheecha

tha bad-sharaab saaqi kitna ki raat may se
main ne jo haath kheecha un ne kataar kheecha

masti mein shakl saari naqqaash se khinchi par
aankhon ko dekh us ki aakhir khumaar kheecha

jee khinch rahe hain udhar aalam ka hoga balwa
gar shaane tu ne us ki zulfon ka taar kheecha

tha shab kise kasaae tegh-e-kasheeda-kaf mein
par main ne bhi baghal baghal be-ikhtiyaar kheecha

firta hai meer to jo faade hue garebaan
kis kis sitam-zade ne daamaan yaar kheecha

नक़्क़ाश देख तो मैं क्या नक़्श-ए-यार खींचा
उस शोख़ कम-नुमा का नित इंतिज़ार खींचा

रस्म-ए-क़लमरव-ए-इश्क़ मत पूछ कुछ कि नाहक़
एकों की खाल खींची एकों को दार खींचा

था बद-शराब साक़ी कितना कि रात मय से
मैं ने जो हाथ खींचा उन ने कटार खींचा

मस्ती में शक्ल सारी नक़्क़ाश से खिंची पर
आँखों को देख उस की आख़िर ख़ुमार खींचा

जी खिंच रहे हैं ऊधर आलम का होगा बलवा
गर शाने तू ने उस की ज़ुल्फ़ों का तार खींचा

था शब किसे कसाए तेग़-ए-कशीदा-कफ़ में
पर मैं ने भी बग़ल बग़ल बे-इख़्तियार खींचा

फिरता है 'मीर' तो जो फाड़े हुए गरेबाँ
किस किस सितम-ज़दे ने दामाँ यार खींचा

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Zulf Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Zulf Shayari Shayari