kuchh to kah vasl ki phir raat chali jaati hai | कुछ तो कह वस्ल की फिर रात चली जाती है - Meer Taqi Meer

kuchh to kah vasl ki phir raat chali jaati hai
din guzar jaayen hain par baat chali jaati hai

rah gaye gaah tabassum pe gahe baat hi par
baare ai hum-nasheen auqaat chali jaati hai

tuk to waqfa bhi kar ai gardish-e-dauraan ki ye jaan
umr ke haif hi kya saath chali jaati hai

yaa to aati nahin shatranj-zamaana ki chaal
aur waan baazi hui maat chali jaati hai

roz aane pe nahin nisbat-e-ishqi mauqoof
umr bhar ek mulaqaat chali jaati hai

shaikh-e-be-nafs ko nazlaa nahin hai naak ki raah
ye hai ziryaan-e-manee dhaat chali jaati hai

khirka mindil o rida mast liye jaate hain
shaikh ki saari karaamaat chali jaati hai

hai mu'azzin jo bada murgh musallii us ki
maston se nok hi ki baat chali jaati hai

paanv rukta nahin masjid se dam-e-aakhir bhi
marne par aaya hai par laat chali jaati hai

ek ham hi se tafaavut hai sulookon mein meer
yun to auron ki mudaarat chali jaati hai

कुछ तो कह वस्ल की फिर रात चली जाती है
दिन गुज़र जाएँ हैं पर बात चली जाती है

रह गए गाह तबस्सुम पे गहे बात ही पर
बारे ऐ हम-नशीं औक़ात चली जाती है

टुक तो वक़्फ़ा भी कर ऐ गर्दिश-ए-दौराँ कि ये जान
उम्र के हैफ़ ही क्या सात चली जाती है

याँ तो आती नहीं शतरंज-ज़माना की चाल
और वाँ बाज़ी हुई मात चली जाती है

रोज़ आने पे नहीं निस्बत-ए-इश्क़ी मौक़ूफ़
उम्र भर एक मुलाक़ात चली जाती है

शैख़-ए-बे-नफ़स को नज़ला नहीं है नाक की राह
ये है ज़िर्यान-ए-मनी धात चली जाती है

ख़िर्क़ा मिंदील ओ रिदा मस्त लिए जाते हैं
शैख़ की सारी करामात चली जाती है

है मुअज़्ज़िन जो बड़ा मुर्ग़ मुसल्ली उस की
मस्तों से नोक ही की बात चली जाती है

पाँव रुकता नहीं मस्जिद से दम-ए-आख़िर भी
मरने पर आया है पर लात चली जाती है

एक हम ही से तफ़ावुत है सुलूकों में 'मीर'
यूँ तो औरों की मुदारात चली जाती है

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Budhapa Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Budhapa Shayari Shayari