raat pyaasa tha mere lohoo ka | रात प्यासा था मेरे लोहू का - Meer Taqi Meer

raat pyaasa tha mere lohoo ka
hoon deewana tire sag ko ka

shola-e-aah joon-toon ab mujh ko
fikr hai apne har bin moo ka

hai mere yaar ki miso ka rashk
kushta hoon sabza-e-lab-e-joo ka

bosa dena mujhe na kar mauqoof
hai wazifa yahi dua-go ka

main ne talwaar se hiran maare
ishq kar teri chashm-o-abroo ka

shor qulqul ke hoti thi maane
reesh-e-qaazi pe raat main thooka

itr-aageen hai baad-e-subh magar
khul gaya pech-e-zulf khushboo ka

ek do hoon to sahar-e-chashm kahoon
kaarkhaana hai waan to jaadu ka

meer har-chand main ne chaaha lek
na chhupa ishq-e-tifl bad-khoo ka

naam us ka liya idhar-udhar
ud gaya rang hi mere roo ka

रात प्यासा था मेरे लोहू का
हूँ दिवाना तिरे सग को का

शोला-ए-आह जूँ-तूँ अब मुझ को
फ़िक्र है अपने हर बिन मू का

है मिरे यार की मिसों का रश्क
कुश्ता हूँ सब्ज़ा-ए-लब-ए-जू का

बोसा देना मुझे न कर मौक़ूफ़
है वज़ीफ़ा यही दुआ-गो का

मैं ने तलवार से हिरन मारे
इश्क़ कर तेरी चश्म-ओ-अबरू का

शोर क़ुलक़ुल के होती थी माने
रीश-ए-क़ाज़ी पे रात मैं थूका

इत्र-आगीं है बाद-ए-सुब्ह मगर
खुल गया पेच-ए-ज़ुल्फ़ ख़ुश्बू का

एक दो हूँ तो सहर-ए-चश्म कहूँ
कारख़ाना है वाँ तो जादू का

'मीर' हर-चंद मैं ने चाहा लेक
न छुपा इश्क़-ए-तिफ़्ल बद-ख़ू का

नाम उस का लिया इधर-ऊधर
उड़ गया रंग ही मिरे रू का

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Ishq Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Ishq Shayari Shayari