us ke kooche se jo uth ahl-e-wafa jaate hain | उस के कूचे से जो उठ अहल-ए-वफ़ा जाते हैं - Meer Taqi Meer

us ke kooche se jo uth ahl-e-wafa jaate hain
ta-nazar kaam kare roo-b-qafa jaate hain

muttasil rote hi rahiye to bujhe aatish-e-dil
ek do aansu to aur aag laga jaate hain

waqt-e-khush un ka jo ham-bazm hain tere ham to
dar-o-deewar ko ahvaal suna jaate hain

jaayegi taqat-e-pa aah tu kareega kya
ab to ham haal kabhu tum ko dikha jaate hain

ek beemaar-e-judai hoon main aafi tis par
poochne waale juda jaan ko kha jaate hain

gair ki tegh-e-zabaan se tiri majlis mein to ham
aa ke roz ek naya zakham utha jaate hain

arz-e-wahshat na diya kar to bagule itni
apni waadi pe kabhu yaar bhi aa jaate hain

meer sahab bhi tire kooche mein shab aate hain lek
jaise daryooza-gari karne gada jaate hain

उस के कूचे से जो उठ अहल-ए-वफ़ा जाते हैं
ता-नज़र काम करे रू-ब-क़फ़ा जाते हैं

मुत्तसिल रोते ही रहिए तो बुझे आतिश-ए-दिल
एक दो आँसू तो और आग लगा जाते हैं

वक़्त-ए-ख़ुश उन का जो हम-बज़्म हैं तेरे हम तो
दर-ओ-दीवार को अहवाल सुना जाते हैं

जाएगी ताक़त-ए-पा आह तू करीएगा क्या
अब तो हम हाल कभू तुम को दिखा जाते हैं

एक बीमार-ए-जुदाई हूँ मैं आफी तिस पर
पूछने वाले जुदा जान को खा जाते हैं

ग़ैर की तेग़-ए-ज़बाँ से तिरी मज्लिस में तो हम
आ के रोज़ एक नया ज़ख़्म उठा जाते हैं

अर्ज़-ए-वहशत न दिया कर तो बगूले इतनी
अपनी वादी पे कभू यार भी आ जाते हैं

'मीर' साहब भी तिरे कूचे में शब आते हैं लेक
जैसे दरयूज़ा-गरी करने गदा जाते हैं

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Dost Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Dost Shayari Shayari