aa jaayen ham nazar jo koi dam bahut hai yaa | आ जाएँ हम नज़र जो कोई दम बहुत है याँ - Meer Taqi Meer

aa jaayen ham nazar jo koi dam bahut hai yaa
mohlat hamein bisaan-e-sharar kam bahut hai yaa

yak lahza seena-kobi se furqat hamein nahin
yaani ki dil ke jaane ka maatam bahut hai yaa

haasil hai kya sivaae taraai ke dehr mein
uth aasmaan tale se ki shabnam bahut hai yaa

mail-b-ghair hona tujh abroo ka aib hai
thi zor ye kamaan wale kham-cham bahut hai yaa

ham rah-ravaan-e-raah-e-fanaa der rah chuke
waqfa bisaan-e-subh koi dam bahut hai yaa

is but-kade mein ma'ni ka kis se karein sawaal
aadam nahin hai soorat-e-aadam bahut hai yaa

aalam mein log milne ki go ab nahin rahe
har-chand aisa waisa to aalam bahut hai yaa

waisa chaman se saada nikalta nahin koi
rangeeni ek aur kham-o-cham bahut hai yaa

ejaz-e-eiswi se nahin bahs ishq mein
teri hi baat jaan mujassam bahut hai yaa

mere halaak karne ka gham hai abas tumhein
tum shaad zindagaani karo gham bahut hai yaa

dil mat laga rukh-e-araq-aalood yaar se
aaine ko utha ki zameen nam bahut hai yaa

shaayad ki kaam subh tak apna khinche na meer
ahvaal aaj shaam se darham bahut hai yaa

आ जाएँ हम नज़र जो कोई दम बहुत है याँ
मोहलत हमें बिसान-ए-शरर कम बहुत है याँ

यक लहज़ा सीना-कोबी से फ़ुर्सत हमें नहीं
यानी कि दिल के जाने का मातम बहुत है याँ

हासिल है क्या सिवाए तराई के दहर में
उठ आसमाँ तले से कि शबनम बहुत है याँ

माइल-ब-ग़ैर होना तुझ अबरू का ऐब है
थी ज़ोर ये कमाँ वले ख़म-चम बहुत है याँ

हम रह-रवान-ए-राह-ए-फ़ना देर रह चुके
वक़्फ़ा बिसान-ए-सुब्ह कोई दम बहुत है याँ

इस बुत-कदे में मअ'नी का किस से करें सवाल
आदम नहीं है सूरत-ए-आदम बहुत है याँ

आलम में लोग मिलने की गों अब नहीं रहे
हर-चंद ऐसा वैसा तो आलम बहुत है याँ

वैसा चमन से सादा निकलता नहीं कोई
रंगीनी एक और ख़म-ओ-चम बहुत है याँ

एजाज़-ए-ईसवी से नहीं बहस इश्क़ में
तेरी ही बात जान मुजस्सम बहुत है याँ

मेरे हलाक करने का ग़म है अबस तुम्हें
तुम शाद ज़िंदगानी करो ग़म बहुत है याँ

दिल मत लगा रुख़-ए-अरक़-आलूद यार से
आईने को उठा कि ज़मीं नम बहुत है याँ

शायद कि काम सुब्ह तक अपना खिंचे न 'मीर'
अहवाल आज शाम से दरहम बहुत है याँ

- Meer Taqi Meer
1 Like

Falak Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Falak Shayari Shayari