kuchh karo fikr mujh deewane ki | कुछ करो फ़िक्र मुझ दीवाने की - Meer Taqi Meer

kuchh karo fikr mujh deewane ki
dhoom hai phir bahaar aane ki

dil ka us kunj-e-lab se de hai nishaan
baat lagti to hai thikaane ki

vo jo firta hai mujh se door hi door
hai ye taqreeb jee ke jaane ki

tez yun hi na thi shab aatish-e-shauq
thi khabar garm us ke aane ki

khizr us khatt-e-sabz par to mua
dhun hai ab apne zahar khaane ki

dil-e-sad-chaak baab-e-zulf hai lek
baav si bandh rahi hai shaane ki

kisoo kam-zarf ne lagaaee aah
tujh se may-khaane ke jalane ki

warna ai sheikh-e-shahr waajib thi
jaam-daari sharaab-khaane ki

jo hai so paayemaal-e-gham hai meer
chaal be-dol hai zamaane ki

कुछ करो फ़िक्र मुझ दीवाने की
धूम है फिर बहार आने की

दिल का उस कुंज-ए-लब से दे है निशाँ
बात लगती तो है ठिकाने की

वो जो फिरता है मुझ से दूर ही दूर
है ये तक़रीब जी के जाने की

तेज़ यूँ ही न थी शब आतिश-ए-शौक़
थी ख़बर गर्म उस के आने की

ख़िज़्र उस ख़त्त-ए-सब्ज़ पर तो मुआ
धुन है अब अपने ज़हर खाने की

दिल-ए-सद-चाक बाब-ए-जुल्फ़ है लेक
बाव सी बंध रही है शाने की

किसू कम-ज़र्फ़ ने लगाई आह
तुझ से मय-ख़ाने के जलाने की

वर्ना ऐ शैख़-ए-शहर वाजिब थी
जाम-दारी शराब-ख़ाने की

जो है सो पाएमाल-ए-ग़म है 'मीर'
चाल बे-डोल है ज़माने की

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Jahar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Jahar Shayari Shayari