paaye khitaab kya kya dekhe i'taab kya kya | पाए ख़िताब क्या क्या देखे इ'ताब क्या क्या - Meer Taqi Meer

paaye khitaab kya kya dekhe i'taab kya kya
dil ko laga ke ham ne kheeche azaab kya kya

kaate hain khaak uda kar jon gard-baad barson
galiyon mein ham hue hain us bin kharab kya kya

kuchh gul se hain shagufta kuchh sarv se hain qad-kash
us ke khayal mein ham dekhe hain khwaab kya kya

anwa-e-jurm mere phir be-shumaar-o-be-had
roz-e-hisaab lenge mujh se hisaab kya kya

ik aag lag rahi hai seenon mein kuchh na poocho
jal jal ke ham hue hain us bin kebab kya kya

ifraat-e-shauq mein to rooyat rahi na mutlaq
kahte hain mere munh par ab shaikh-o-shaab kya kya

phir phir gaya hai aa kar munh tak jigar hamaare
guzre hain jaan-o-dil par yaa iztiraab kya kya

aashufta us ke gesu jab se hue hain munh par
tab se hamaare dil ko hai pech-o-taab kya kya

kuchh soojhtaa nahin hai masti mein meer'-ji ko
karte hain poch-goi pee kar sharaab kya kya

पाए ख़िताब क्या क्या देखे इ'ताब क्या क्या
दिल को लगा के हम ने खींचे अज़ाब क्या क्या

काटे हैं ख़ाक उड़ा कर जों गर्द-बाद बरसों
गलियों में हम हुए हैं उस बिन ख़राब क्या क्या

कुछ गुल से हैं शगुफ़्ता कुछ सर्व से हैं क़द-कश
उस के ख़याल में हम देखे हैं ख़्वाब क्या क्या

अन्वा-ए-जुर्म मेरे फिर बे-शुमार-ओ-बे-हद
रोज़-ए-हिसाब लेंगे मुझ से हिसाब क्या क्या

इक आग लग रही है सीनों में कुछ न पूछो
जल जल के हम हुए हैं उस बिन कबाब क्या क्या

इफ़रात-ए-शौक़ में तो रूयत रही न मुतलक़
कहते हैं मेरे मुँह पर अब शैख़-ओ-शाब क्या क्या

फिर फिर गया है आ कर मुँह तक जिगर हमारे
गुज़रे हैं जान-ओ-दिल पर याँ इज़्तिराब क्या क्या

आशुफ़्ता उस के गेसू जब से हुए हैं मुँह पर
तब से हमारे दिल को है पेच-ओ-ताब क्या क्या

कुछ सूझता नहीं है मस्ती में 'मीर'-जी को
करते हैं पोच-गोई पी कर शराब क्या क्या

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Masti Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Masti Shayari Shayari