band-e-qaba ko khooban jis waqt vaa karenge | बंद-ए-क़बा को ख़ूबाँ जिस वक़्त वा करेंगे - Meer Taqi Meer

band-e-qaba ko khooban jis waqt vaa karenge
khemyaaza-kash jo honge milne ke kya karenge

rona yahi hai mujh ko teri jafaa se har-dam
ye dil-dimaagh dono kab tak wafa karenge

hai deen sar ka dena gardan pe apni khooban
jeete hain to tumhaara ye qarz ada karenge

darvesh hain ham aakhir do-ik nigaah ki ruksat
goshe mein baithe pyaare tum ko dua karenge

aakhir to rozay aaye do-chaar roz ham bhi
tarsa bachon mein ja kar daaru piya karenge

kuchh to kahega ham ko khaamosh dekh kar vo
is baat ke liye ab chup hi raha karenge

aalam mere hai tujh par aayi agar qayamat
teri gali ke har-soo mahshar hua karenge

daaman-e-dasht sookha abron ki be-tehi se
jungle mein rone ko ab ham bhi chala karenge

laai tiri gali tak aawaargi hamaari
zillat ki apni ab ham izzat kiya karenge

ahwaal-'meer kyunkar aakhir ho ek shab mein
ik umr ham ye qissa tum se kaha karenge

बंद-ए-क़बा को ख़ूबाँ जिस वक़्त वा करेंगे
ख़म्याज़ा-कश जो होंगे मिलने के क्या करेंगे

रोना यही है मुझ को तेरी जफ़ा से हर-दम
ये दिल-दिमाग़ दोनों कब तक वफ़ा करेंगे

है दीन सर का देना गर्दन पे अपनी ख़ूबाँ
जीते हैं तो तुम्हारा ये क़र्ज़ अदा करेंगे

दरवेश हैं हम आख़िर दो-इक निगह की रुख़्सत
गोशे में बैठे प्यारे तुम को दुआ करेंगे

आख़िर तो रोज़े आए दो-चार रोज़ हम भी
तरसा बचों में जा कर दारू पिया करेंगे

कुछ तो कहेगा हम को ख़ामोश देख कर वो
इस बात के लिए अब चुप ही रहा करेंगे

आलम मिरे है तुझ पर आई अगर क़यामत
तेरी गली के हर-सू महशर हुआ करेंगे

दामान-ए-दश्त सूखा अब्रों की बे-तही से
जंगल में रोने को अब हम भी चला करेंगे

लाई तिरी गली तक आवारगी हमारी
ज़िल्लत की अपनी अब हम इज़्ज़त किया करेंगे

अहवाल-'मीर' क्यूँकर आख़िर हो एक शब में
इक उम्र हम ये क़िस्सा तुम से कहा करेंगे

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Dua Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Dua Shayari Shayari