kaash uthiin ham bhi gunehgaaro ke beech | काश उठीं हम भी गुनहगारों के बीच - Meer Taqi Meer

kaash uthiin ham bhi gunehgaaro ke beech
hoon jo rahmat ke saza-waaron ke beech

jee sada un abroon hi mein raha
ki basar ham-umr talwaaron ke beech

chashm ho to aaina-khaana hai dehr
munh nazar aata hai deewaron ke beech

hain anaasir ki ye soorat-baaziyaan
sho'bde kya kya hain un chaaron ke beech

jab se le nikla hai to ye jins-e-husn
pad gai hai dhoom bazaaron ke beech

aashiqi-o-be-kasi-o-raftagi
jee raha kab aise azaaron ke beech

jo sarishk us maah bin jhamke hai shab
vo chamak kahe ko hai taaron ke beech

us ke aatishnaak rukhsaaron baghair
lotiye yun kab tak angaaron ke beech

baithna ghairoon mein kab hai nang-e-yaar
phool gul hote hi hain khaaron ke beech

yaaro mat us ka fareb-e-mehr khao
meer bhi the us ke hi yaaron ke beech

काश उठीं हम भी गुनहगारों के बीच
हूँ जो रहमत के सज़ा-वारों के बीच

जी सदा उन अब्रूओं ही में रहा
की बसर हम-उम्र तलवारों के बीच

चश्म हो तो आईना-ख़ाना है दहर
मुँह नज़र आता है दीवारों के बीच

हैं अनासिर की ये सूरत-बाज़ियाँ
शो'बदे क्या क्या हैं उन चारों के बीच

जब से ले निकला है तो ये जिंस-ए-हुस्न
पड़ गई है धूम बाज़ारों के बीच

आशिक़ी-ओ-बे-कसी-ओ-रफ़तगी
जी रहा कब ऐसे आज़ारों के बीच

जो सरिश्क उस माह बिन झमके है शब
वो चमक काहे को है तारों के बीच

उस के आतिशनाक रुख़्सारों बग़ैर
लोटिए यूँ कब तक अँगारों के बीच

बैठना ग़ैरों में कब है नंग-ए-यार
फूल गुल होते ही हैं ख़ारों के बीच

यारो मत उस का फ़रेब-ए-मेहर खाओ
'मीर' भी थे उस के ही यारों के बीच

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Gulshan Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Gulshan Shayari Shayari