zabaan rakh guncha saan apne dehan mein | ज़बाँ रख ग़ुंचा साँ अपने दहन में - Meer Taqi Meer

zabaan rakh guncha saan apne dehan mein
bandhi mutthi chala ja is chaman mein

na khol ai yaar mera gor mein munh
ki hasrat hai meri jaaga kafan mein

rakha kar haath dil par aah karte
nahin rehta charaagh aisi pavan mein

jale dil ki museebat apne sun kar
lagi hai aag saare tan badan mein

na tujh bin hosh mein ham aaye saaqi
musaafir hi rahe akshar watan mein

khird-mandi hui zanjeer warna
guzarti khoob thi deewana-pan mein

kahaan ke sham-o-parwaane gaye mar
bahut aatash-bajaan the is chaman mein

kahaan aziz-sukhan qaadir-sukhan hoon
hamein hai shubh yaaron ke sukhun mein

gudaaz ishq mein b bhi gaya meer
yahi dhoka sa hai ab pairhan mein

ज़बाँ रख ग़ुंचा साँ अपने दहन में
बंधी मुट्ठी चला जा इस चमन में

न खोल ऐ यार मेरा गोर में मुँह
कि हसरत है मिरी जागा कफ़न में

रखा कर हाथ दिल पर आह करते
नहीं रहता चराग़ ऐसी पवन में

जले दिल की मुसीबत अपने सुन कर
लगी है आग सारे तन बदन में

न तुझ बिन होश में हम आए साक़ी
मुसाफ़िर ही रहे अक्सर वतन में

ख़िरद-मंदी हुई ज़ंजीर वर्ना
गुज़रती ख़ूब थी दीवाना-पन में

कहाँ के शम-ओ-परवाने गए मर
बहुत आतश-बजाँ थे इस चमन में

कहाँ आजिज़-सुख़न क़ादिर-सुख़न हूँ
हमें है शुबह यारों के सुख़न में

गुदाज़ इश्क़ में ब भी गया 'मीर'
यही धोका सा है अब पैरहन में

- Meer Taqi Meer
2 Likes

Shama Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Shama Shayari Shayari