nahin waswaas jee ganwaane ke | नहीं वसवास जी गँवाने के - Meer Taqi Meer

nahin waswaas jee ganwaane ke
haaye re zauq dil lagaane ke

mere taghaeer-e-haal par mat ja
ittifaqaat hain zamaane ke

dam-e-aakhir hi kya na aana tha
aur bhi waqt the bahaane ke

is kudoorat ko ham samjhte hain
dhab hain ye khaak mein milaane ke

bas hain do burg-e-gul qafas mein saba
nahin bhooke ham aab-o-daane ke

marne par baithe hain suno sahab
bande hain apne jee chalaane ke

ab garebaan kahaan ki ai naaseh
chadh gaya haath us deewane ke

chashm-e-najm sipahr jhapke hai
sadqe us ankhdhiyaan ladaane ke

dil-o-deen hosh-o-sabr sab hi gaye
aage aage tumhaare aane ke

kab tu sota tha ghar mare aa kar
jaage taalaa ghareeb-khaane ke

miza-e-abroo-nigah se is ki meer
kushta hain apne dil lagaane ke

teer-o-talwaar-o-sail yakja hain
saare asbaab maar jaane ke

नहीं वसवास जी गँवाने के
हाए रे ज़ौक़ दिल लगाने के

मेरे तग़ईर-ए-हाल पर मत जा
इत्तिफ़ाक़ात हैं ज़माने के

दम-ए-आख़िर ही क्या न आना था
और भी वक़्त थे बहाने के

इस कुदूरत को हम समझते हैं
ढब हैं ये ख़ाक में मिलाने के

बस हैं दो बर्ग-ए-गुल क़फ़स में सबा
नहीं भूके हम आब-ओ-दाने के

मरने पर बैठे हैं सुनो साहब
बंदे हैं अपने जी चलाने के

अब गरेबाँ कहाँ कि ऐ नासेह
चढ़ गया हाथ उस दिवाने के

चश्म-ए-नजम सिपहर झपके है
सदक़े उस अँखड़ियाँ लड़ाने के

दिल-ओ-दीं होश-ओ-सब्र सब ही गए
आगे आगे तुम्हारे आने के

कब तू सोता था घर मरे आ कर
जागे ताला ग़रीब-ख़ाने के

मिज़ा-ए-अबरू-निगह से इस की 'मीर'
कुश्ता हैं अपने दिल लगाने के

तीर-ओ-तलवार-ओ-सैल यकजा हैं
सारे अस्बाब मार जाने के

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Waqt Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Waqt Shayari Shayari