kab tak tu imtihaan mein mujh se juda rahega | कब तक तू इम्तिहाँ में मुझ से जुदा रहेगा - Meer Taqi Meer

kab tak tu imtihaan mein mujh se juda rahega
jeeta hoon to tujhi mein ye dil laga rahega

yaa hijr aur ham mein bigdi hai kab ki sohbat
zakhm-e-dil-o-namak mein kab tak maza rahega

tu barson mein mile hai yaa fikr ye rahe hai
jee jaayega hamaara ik-dam ko ya rahega

mere na hone ka to hai iztiraab yun hi
aaya hai jee labon par ab kya hai ja rahega

ghaafil na rahiyo hargiz naadaan daag-e-dil se
bhadkega jab ye shola tab ghar jala rahega

marne pe apne mat ja saalik talab mein us ki
go sar ko kho rahega par us ko pa rahega

umr-e-azeez saari dil hi ke gham mein guzri
beemaar aashiqi ye kis din bhala rahega

deedaar ka to wa'da mahshar mein dekh kar kar
beemaar gham mein tere tab tak to kya rahega

kya hai jo uth gaya hai par basta-e-wafa hai
qaid-e-hayaat mein hai tu meer aa rahega

कब तक तू इम्तिहाँ में मुझ से जुदा रहेगा
जीता हूँ तो तुझी में ये दिल लगा रहेगा

याँ हिज्र और हम में बिगड़ी है कब की सोहबत
ज़ख़्म-ए-दिल-ओ-नमक में कब तक मज़ा रहेगा

तू बरसों में मिले है याँ फ़िक्र ये रहे है
जी जाएगा हमारा इक-दम को या रहेगा

मेरे न होने का तो है इज़्तिराब यूँ ही
आया है जी लबों पर अब क्या है जा रहेगा

ग़ाफ़िल न रहियो हरगिज़ नादान दाग़-ए-दिल से
भड़केगा जब ये शो'ला तब घर जला रहेगा

मरने पे अपने मत जा सालिक तलब में उस की
गो सर को खो रहेगा पर उस को पा रहेगा

उम्र-ए-अज़ीज़ सारी दिल ही के ग़म में गुज़री
बीमार आशिक़ी ये किस दिन भला रहेगा

दीदार का तो वा'दा महशर में देख कर कर
बीमार ग़म में तेरे तब तक तो क्या रहेगा

क्या है जो उठ गया है पर बस्ता-ए-वफ़ा है
क़ैद-ए-हयात में है तू 'मीर' आ रहेगा

- Meer Taqi Meer
1 Like

Udas Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Udas Shayari Shayari