yaar ne ham se be-adaai ki | यार ने हम से बे-अदाई की - Meer Taqi Meer

yaar ne ham se be-adaai ki
vasl ki raat mein ladai ki

baal-o-par bhi gaye bahaar ke saath
ab tavakko nahin rihaai ki

kulft-e-ranj-e-ishq kam na hui
main dava ki bahut shifaai ki

turfah raftaar ke hain rafta sab
dhoom hai us ki rahgiraai ki

khanda-e-yaar se taraf ho kar
barq ne apni jag-hansaai ki

kuchh muravvat na thi un aankhon mein
dekh kar kya ye aashnaai ki

vasl ke din ko kaar-e-jaan na khincha
shab na aakhir hui judaai ki

munh lagaaya na dukhtar-e-raz ko
main jawaani mein paarsaai ki

jor us sang-dil ke sab na khinche
umr ne sakht bewafaai ki

kohkan kya pahaad torega
ishq ne zor-aazmaai ki

chupke us ki gali mein firte rahe
der waan ham ne be-nawaai ki

ik nigaah mein hazaar jee maare
sahiri ki ki dilrubaaai ki

nisbat us aastaan se kuchh na hui
barson tak ham ne jabha-saai ki

meer ki bandagi mein jaan-baazi
sair si ho gai khudaai ki

यार ने हम से बे-अदाई की
वस्ल की रात में लड़ाई की

बाल-ओ-पर भी गए बहार के साथ
अब तवक़्क़ो नहीं रिहाई की

कुल्फ़त-ए-रंज-ए-इश्क़ कम न हुई
मैं दवा की बहुत शिफ़ाई की

तुर्फ़ा रफ़्तार के हैं रफ़्ता सब
धूम है उस की रहगिराई की

ख़ंदा-ए-यार से तरफ़ हो कर
बर्क़ ने अपनी जग-हँसाई की

कुछ मुरव्वत न थी उन आँखों में
देख कर क्या ये आश्नाई की

वस्ल के दिन को कार-ए-जाँ न खिंचा
शब न आख़िर हुई जुदाई की

मुँह लगाया न दुख़्तर-ए-रज़ को
मैं जवानी में पारसाई की

जौर उस संग-दिल के सब न खिंचे
उम्र ने सख़्त बेवफ़ाई की

कोहकन क्या पहाड़ तोड़ेगा
इश्क़ ने ज़ोर-आज़माई की

चुपके उस की गली में फिरते रहे
देर वाँ हम ने बे-नवाई की

इक निगह में हज़ार जी मारे
साहिरी की कि दिलरुबाई की

निस्बत उस आस्ताँ से कुछ न हुई
बरसों तक हम ने जब्हा-साई की

'मीर' की बंदगी में जाँ-बाज़ी
सैर सी हो गई ख़ुदाई की

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Good night Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Good night Shayari Shayari