misaal-e-saaya mohabbat mein jaal apna hoon | मिसाल-ए-साया मोहब्बत में जाल अपना हूँ - Meer Taqi Meer

misaal-e-saaya mohabbat mein jaal apna hoon
tumhaare saath giriftaar-e-haal apna hoon

sarishk-e-surkh ko jaata hoon jo piye har-dam
lahu ka pyaasa allal-ittisaal apna hoon

agarche nashsha hoon sab mein khum-e-jahaan mein lek
b-rang-e-may araq-e-infi'aal apna hoon

meri numood ne mujh ko kiya barabar khaak
main naqsh-e-paa ki tarah paayemaal apna hoon

hui hai zindagi dushwaar mushkil aasaan kar
phiroon chaloon to hoon par main vabaal apna hoon

tira hai vaham ki ye na-tawan hai jaame mein
vagarna main nahin ab ik khayal apna hoon

bala hui hai meri go ka tab-e-raushan meer
hoon aftaab v-lekin zawaal apna hoon

मिसाल-ए-साया मोहब्बत में जाल अपना हूँ
तुम्हारे साथ गिरफ़्तार-ए-हाल अपना हूँ

सरिश्क-ए-सुर्ख़ को जाता हूँ जो पिए हर-दम
लहू का प्यासा अलल-इत्तिसाल अपना हूँ

अगरचे नश्शा हूँ सब में ख़ुम-ए-जहाँ में लेक
ब-रंग-ए-मय अरक़-ए-इंफ़िआ'ल अपना हूँ

मिरी नुमूद ने मुझ को किया बराबर ख़ाक
मैं नक़्श-ए-पा की तरह पाएमाल अपना हूँ

हुई है ज़िंदगी दुश्वार मुश्किल आसाँ कर
फिरूँ चलूँ तो हूँ पर मैं वबाल अपना हूँ

तिरा है वहम कि ये ना-तवाँ है जामे में
वगर्ना मैं नहीं अब इक ख़याल अपना हूँ

बला हुई है मिरी गो का तब्-ए-रौशन 'मीर'
हूँ आफ़्ताब व-लेकिन ज़वाल अपना हूँ

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Love Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Love Shayari Shayari