jab yaar ne utha kar zulfon ke baal baandhe | जब यार ने उठा कर ज़ुल्फ़ों के बाल बाँधे - Mohammad Rafi Sauda

jab yaar ne utha kar zulfon ke baal baandhe
tab main ne apne dil mein laakhon khayal baandhe

do din mein ham to rizhe ai waaye haal un ka
guzre hain jin ke dil ko yaa maah-o-saal baandhe

taar-e-nigah mein us ke kyunkar fanse na ye dil
aankhon ne jis ke laakhon wahshi ghazaal baandhe

jo kuchh hai rang us ka so hai nazar mein apni
go jaama zard pahne ya cheera laal baandhe

tere hi saamne kuchh bahke hai mera naala
warna nishaane ham ne maare hain baal baandhe

bose ki to hai khwaahish par kahiye kyunki us se
jis ka mizaaj lab par harf-e-sawaal baandhe

maaroge kis ko jee se kis par kamar kasi hai
firte ho kyun pyaare talwaar dhaal baandhe

do-chaar sher aage us ke parhe to bola
mazmoon ye tu ne apne kya hasb-e-haal baandhe

sauda jo un ne baandha zulfon mein dil saza hai
sheron mein us ke tu ne kyun khatt-o-khaal baandhe

जब यार ने उठा कर ज़ुल्फ़ों के बाल बाँधे
तब मैं ने अपने दिल में लाखों ख़याल बाँधे

दो दिन में हम तो रीझे ऐ वाए हाल उन का
गुज़रे हैं जिन के दिल को याँ माह-ओ-साल बाँधे

तार-ए-निगह में उस के क्यूँकर फँसे न ये दिल
आँखों ने जिस के लाखों वहशी ग़ज़ाल बाँधे

जो कुछ है रंग उस का सो है नज़र में अपनी
गो जामा ज़र्द पहने या चीरा लाल बाँधे

तेरे ही सामने कुछ बहके है मेरा नाला
वर्ना निशाने हम ने मारे हैं बाल बाँधे

बोसे की तो है ख़्वाहिश पर कहिए क्यूँकि उस से
जिस का मिज़ाज लब पर हर्फ़-ए-सवाल बाँधे

मारोगे किस को जी से किस पर कमर कसी है
फिरते हो क्यूँ प्यारे तलवार ढाल बाँधे

दो-चार शेर आगे उस के पढ़े तो बोला
मज़मूँ ये तू ने अपने क्या हस्ब-ए-हाल बाँधे

'सौदा' जो उन ने बाँधा ज़ुल्फ़ों में दिल सज़ा है
शेरों में उस के तू ने क्यूँ ख़त्त-ओ-ख़ाल बाँधे

- Mohammad Rafi Sauda
3 Likes

Chehra Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mohammad Rafi Sauda

As you were reading Shayari by Mohammad Rafi Sauda

Similar Writers

our suggestion based on Mohammad Rafi Sauda

Similar Moods

As you were reading Chehra Shayari Shayari