hamaara dil jab nahi laga to sawaal paida hua lagega | हमारा दिल जब नही लगा तो सवाल पैदा हुआ लगेगा - Muzdum Khan

hamaara dil jab nahi laga to sawaal paida hua lagega
jawaab mein hamne kah diya theek hai magar aur kya lagega

yuhi kabhi teer choom kar vo meri taraf chhod de kamaan se
mera muqaddar to is tarah ka hai teer dushman ko ja lagega

ki dost aise muaashre mein muaashqa chahte hain mujhse
main jismein thappad bhi khaana chaahoon to vo bhi burke mein aa lagega

hamaara naqsha kirayaa mehnat dimaag lagta hai raaston par
tumhaari to insey dosti hai tumhaara to shukriya lagega

mushaayaron mein ghazal nahi log sirf huliyo ko dekhte hain
mera bhi ek dost hai jo hansne ke baad john alia lagega

हमारा दिल जब नही लगा तो सवाल पैदा हुआ लगेगा
जवाब में हमनें कह दिया ठीक है मग़र और क्या लगेगा

अग़र कभी तीर चूम कर वो मेरी तरफ़ छोड़ दे कमां से
मेरा मुक़द्दर तो इस तरह का है तीर दुश्मन को जा लगेगा

कि दोस्त ऐसे मुआशरे में मुआशका चाहते हैं मुझसे
मैं जिसमें थप्पड़ भी खाना चाहूँ तो वो भी बुर्के में आ लगेगा

हमारा नक़्शा किराया मेहनत दिमाग लगता है रास्तों पर
तुम्हारी तो इनसे दोस्ती है तुम्हारा तो शुक्रिया लगेगा

मुशायरों में ग़ज़ल नही लोग सिर्फ हुलियों को देखते हैं
मेरा भी एक दोस्त है जो हँसने के बाद जॉन एलिया लगेगा

- Muzdum Khan
9 Likes

Friendship Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Muzdum Khan

As you were reading Shayari by Muzdum Khan

Similar Writers

our suggestion based on Muzdum Khan

Similar Moods

As you were reading Friendship Shayari Shayari