duniya mere khilaaf thi tu bhi khilaaf hai | दुनिया मेरे ख़िलाफ़ थी, तू भी ख़िलाफ़ है - Muzdum Khan

duniya mere khilaaf thi tu bhi khilaaf hai
ye sach nahin hai hai to mujhe ikhtilaaf hai

jo bhi kare jahaan bhi kare jis tarah kare
usko meri taraf se sabhi kuchh muaaf hai

bheege hue hai daaman-o-roomaal-o-aasteen
haalanki aasmaan pe matla bhi saaf hai

awaaz hi sooni na ho jis shakhs ne kabhi
uske liye main jo bhi kahoon inkishaaf hai

badnaam ho gaya hoon mohabbat mein naam par
muzdam ye mera sabse bada eitraaf hai

दुनिया मेरे ख़िलाफ़ थी, तू भी ख़िलाफ़ है
ये सच नहीं है ,है तो मुझे इख़्तिलाफ़ है

जो भी करे जहाँ भी करे जिस तरह करे
उसको मेरी तरफ़ से सभी कुछ मुआफ़ है

भीगे हुए है दामन-ओ-रूमाल-ओ-आस्तीं
हालांकि आसमान पे मतला भी साफ़ है

आवाज़ ही सुनी न हो जिस शख़्स ने कभी
उसके लिए मैं जो भी कहूँ इंकिशाफ़ है

बदनाम हो गया हूँ मोहब्बत में नाम पर
'मुज़दम' ये मेरा सबसे बड़ा एतिराफ़ है

- Muzdum Khan
9 Likes

Aasman Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Muzdum Khan

As you were reading Shayari by Muzdum Khan

Similar Writers

our suggestion based on Muzdum Khan

Similar Moods

As you were reading Aasman Shayari Shayari