mujhe apni khabar nahin hoti thi ehsaas nahin hota tha koi | मुझे अपनी ख़बर नहीं होती थी, एहसास नहीं होता था कोई - Muzdum Khan

mujhe apni khabar nahin hoti thi ehsaas nahin hota tha koi
magar iska ye matlab nahin hai mere paas nahin hota tha koi

ik aisi chudail ke zad mein tha main pichhli baras ki shaamon mein
jo aisi jagah se bhi nochti thi jahaan maas nahin hota tha koi

mujhe jad se ukhaadne waalon ki saanson ka ukhaadna rivaayat hai
main ped nahin hota tha koi main ghaas nahin hota tha koi

मुझे अपनी ख़बर नहीं होती थी, एहसास नहीं होता था कोई
मगर इसका ये मतलब नहीं है मेरे पास नहीं होता था कोई

इक ऐसी चुड़ैल के ज़द में था मैं पिछली बरस की शामों में
जो ऐसी जगह से भी नोचती थी जहाँ मास नहीं होता था कोई

मुझे जड़ से उखाड़ने वालों की साँसों का उखड़ना रिवायत है
मैं पेड़ नहीं होता था कोई मैं घास नहीं होता था कोई

- Muzdum Khan
11 Likes

Jazbaat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Muzdum Khan

As you were reading Shayari by Muzdum Khan

Similar Writers

our suggestion based on Muzdum Khan

Similar Moods

As you were reading Jazbaat Shayari Shayari