main aise ahad mein shayar hua ki jab sab the | मैं ऐसे अहद में शायर हुआ कि जब सब थे - Muzdum Khan

main aise ahad mein shayar hua ki jab sab the
vo sab ki jo ye samjhte the vo hi sab sab the

main sirf isliye zinda hoon jab azaab aaye
to usse aankhe milaakar kahoon ye sab sab the

haseen auratein lashkar mein bharti kar di gaeein
shikast ho gai dushman ko kyonki ab sab the

qayaamat aayi to shiqwe ke taur par maine
mazaak udaaya kahaan rah gai thi jab sab the

do chaar log marengay tumhaare aane par
zyaada der laga di hai tumne tab sab the

मैं ऐसे अहद में शायर हुआ कि जब सब थे
वो सब कि जो ये समझते थे वो ही सब सब थे

मैं सिर्फ इसलिए ज़िंदा हूँ जब अज़ाब आये
तो उससे आँखे मिलाकर कहूँ ये सब सब थे

हसीन औरतें लश्कर में भर्ती कर दी गईं
शिकस्त हो गई दुश्मन को क्योंकि अब सब थे

क़यामत आई तो शिक़वे के तौर पर मैंने
मज़ाक उड़ाया कहाँ रह गई थी जब सब थे

दो चार लोग मरेंगे तुम्हारे आने पर
ज़्यादा देर लगा दी है तुमने तब सब थे

- Muzdum Khan
8 Likes

Revenge Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Muzdum Khan

As you were reading Shayari by Muzdum Khan

Similar Writers

our suggestion based on Muzdum Khan

Similar Moods

As you were reading Revenge Shayari Shayari