jitni buri kahi jaati hai utni buri nahin hai duniya | जितनी बुरी कही जाती है उतनी बुरी नहीं है दुनिया - Nida Fazli

jitni buri kahi jaati hai utni buri nahin hai duniya
bacchon ke school mein shaayad tum se mili nahin hai duniya

chaar gharo ke ek mohalle ke baahar bhi hai aabaadi
jaisi tumhein dikhaai di hai sab ki wahi nahin hai duniya

ghar mein hi mat use sajaao idhar udhar bhi le ke jaao
yun lagta hai jaise tum se ab tak khuli nahin hai duniya

bhag rahi hai gend ke peeche jaag rahi hai chaand ke neeche
shor bhare kaale naaron se ab tak dari nahin hai duniya

जितनी बुरी कही जाती है उतनी बुरी नहीं है दुनिया
बच्चों के स्कूल में शायद तुम से मिली नहीं है दुनिया

चार घरों के एक मोहल्ले के बाहर भी है आबादी
जैसी तुम्हें दिखाई दी है सब की वही नहीं है दुनिया

घर में ही मत उसे सजाओ इधर उधर भी ले के जाओ
यूँ लगता है जैसे तुम से अब तक खुली नहीं है दुनिया

भाग रही है गेंद के पीछे जाग रही है चाँद के नीचे
शोर भरे काले नारों से अब तक डरी नहीं है दुनिया

- Nida Fazli
0 Likes

Masti Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Nida Fazli

As you were reading Shayari by Nida Fazli

Similar Writers

our suggestion based on Nida Fazli

Similar Moods

As you were reading Masti Shayari Shayari