do chaar gaam raah ko hamvaar dekhna | दो चार गाम राह को हमवार देखना - Nida Fazli

do chaar gaam raah ko hamvaar dekhna
phir har qadam pe ik nayi deewaar dekhna

aankhon ki raushni se hai har sang aaina
har aaine mein khud ko gunahgaar dekhna

har aadmi mein hote hain das bees aadmi
jis ko bhi dekhna ho kai baar dekhna

maidaan ki haar jeet to qismat ki baat hai
tooti hai kis ke haath mein talwaar dekhna

dariya ke is kinaare sitaare bhi phool bhi
dariya chadha hua ho to us paar dekhna

achhi nahin hai shehar ke raston se dosti
aangan mein phail jaaye na bazaar dekhna

दो चार गाम राह को हमवार देखना
फिर हर क़दम पे इक नई दीवार देखना

आँखों की रौशनी से है हर संग आईना
हर आइने में ख़ुद को गुनहगार देखना

हर आदमी में होते हैं दस बीस आदमी
जिस को भी देखना हो कई बार देखना

मैदाँ की हार जीत तो क़िस्मत की बात है
टूटी है किस के हाथ में तलवार देखना

दरिया के इस किनारे सितारे भी फूल भी
दरिया चढ़ा हुआ हो तो उस पार देखना

अच्छी नहीं है शहर के रस्तों से दोस्ती
आँगन में फैल जाए न बाज़ार देखना

- Nida Fazli
3 Likes

Shahr Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Nida Fazli

As you were reading Shayari by Nida Fazli

Similar Writers

our suggestion based on Nida Fazli

Similar Moods

As you were reading Shahr Shayari Shayari