waqt banjaara-sifat lamha b lamha apna | वक़्त बंजारा-सिफ़त लम्हा ब लम्हा अपना - Nida Fazli

waqt banjaara-sifat lamha b lamha apna
kis ko maaloom yahan kaun hai kitna apna

jo bhi chahe vo bana le use apne jaisa
kisi aaine ka hota nahin chehra apna

khud se milne ka chalan aam nahin hai warna
apne andar hi chhupa hota hai rasta apna

yun bhi hota hai vo khoobi jo hai ham se mansoob
us ke hone mein nahin hota iraada apna

khat ke aakhir mein sabhi yun hi raqam karte hain
us ne rasman hi likha hoga tumhaara apna

वक़्त बंजारा-सिफ़त लम्हा ब लम्हा अपना
किस को मालूम यहाँ कौन है कितना अपना

जो भी चाहे वो बना ले उसे अपने जैसा
किसी आईने का होता नहीं चेहरा अपना

ख़ुद से मिलने का चलन आम नहीं है वर्ना
अपने अंदर ही छुपा होता है रस्ता अपना

यूँ भी होता है वो ख़ूबी जो है हम से मंसूब
उस के होने में नहीं होता इरादा अपना

ख़त के आख़िर में सभी यूँ ही रक़म करते हैं
उस ने रस्मन ही लिखा होगा तुम्हारा अपना

- Nida Fazli
2 Likes

Aam Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Nida Fazli

As you were reading Shayari by Nida Fazli

Similar Writers

our suggestion based on Nida Fazli

Similar Moods

As you were reading Aam Shayari Shayari