girja mein mandiron mein azaanon mein bat gaya | गिरजा में मंदिरों में अज़ानों में बट गया - Nida Fazli

girja mein mandiron mein azaanon mein bat gaya
hote hi subh aadmi khaanon mein bat gaya

ik ishq naam ka jo parinda khala mein tha
utara jo shehar mein to dukano mein bat gaya

pehle talaasha khet phir dariya ki khoj ki
baaki ka waqt gehuun ke daano mein bat gaya

jab tak tha aasmaan mein suraj sabhi ka tha
phir yun hua vo chand makaanon mein bat gaya

hain taak mein shikaari nishaana hain bastiyaan
aalam tamaam chand machaanon mein bat gaya

khabron ne ki musavvari khabren ghazal bani
zinda lahu to teer kamaanon mein bat gaya

गिरजा में मंदिरों में अज़ानों में बट गया
होते ही सुब्ह आदमी ख़ानों में बट गया

इक इश्क़ नाम का जो परिंदा ख़ला में था
उतरा जो शहर में तो दुकानों में बट गया

पहले तलाशा खेत फिर दरिया की खोज की
बाक़ी का वक़्त गेहूँ के दानों में बट गया

जब तक था आसमान में सूरज सभी का था
फिर यूँ हुआ वो चंद मकानों में बट गया

हैं ताक में शिकारी निशाना हैं बस्तियाँ
आलम तमाम चंद मचानों में बट गया

ख़बरों ने की मुसव्वरी ख़बरें ग़ज़ल बनीं
ज़िंदा लहू तो तीर कमानों में बट गया

- Nida Fazli
1 Like

Parinda Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Nida Fazli

As you were reading Shayari by Nida Fazli

Similar Writers

our suggestion based on Nida Fazli

Similar Moods

As you were reading Parinda Shayari Shayari