ye kaisi kashmakash hai zindagi mein | ये कैसी कश्मकश है ज़िंदगी में - Nida Fazli

ye kaisi kashmakash hai zindagi mein
kisi ko dhoondte hain ham kisi mein

jo kho jaata hai mil kar zindagi mein
ghazal hai naam us ka shaayeri mein

nikal aate hain aansu hanste hanste
ye kis gham ki kasak hai har khushi mein

kahi chehra kahi aankhen kahi lab
hamesha ek milta hai kai mein

chamakti hai andheron mein khamoshi
sitaare tootte hain raat hi mein

sulagti ret mein paani kahaan tha
koi baadal chhupa tha tishnagi mein

bahut mushkil hai banjaara-mizaaji
saleeqa chahiye aawaargi mein

ये कैसी कश्मकश है ज़िंदगी में
किसी को ढूँडते हैं हम किसी में

जो खो जाता है मिल कर ज़िंदगी में
ग़ज़ल है नाम उस का शाएरी में

निकल आते हैं आँसू हँसते हँसते
ये किस ग़म की कसक है हर ख़ुशी में

कहीं चेहरा कहीं आँखें कहीं लब
हमेशा एक मिलता है कई में

चमकती है अंधेरों में ख़मोशी
सितारे टूटते हैं रात ही में

सुलगती रेत में पानी कहाँ था
कोई बादल छुपा था तिश्नगी में

बहुत मुश्किल है बंजारा-मिज़ाजी
सलीक़ा चाहिए आवारगी में

- Nida Fazli
1 Like

Chehra Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Nida Fazli

As you were reading Shayari by Nida Fazli

Similar Writers

our suggestion based on Nida Fazli

Similar Moods

As you were reading Chehra Shayari Shayari