kuchh tabi'at hi mili thi aisi chain se jeene ki soorat na hui | कुछ तबीअ'त ही मिली थी ऐसी चैन से जीने की सूरत न हुई - Nida Fazli

kuchh tabi'at hi mili thi aisi chain se jeene ki soorat na hui
jis ko chaaha use apna na sake jo mila us se mohabbat na hui

jis se jab tak mile dil hi se mile dil jo badla to fasana badla
rasm-e-duniya ko nibhaane ke liye ham se rishton ki tijaarat na hui

door se tha vo kai chehron mein paas se koi bhi waisa na laga
bewafaai bhi usi ka tha chalan phir kisi se ye shikaayat na hui

chhod kar ghar ko kahi jaane se ghar mein rahne ki ibadat thi badi
jhooth mashhoor hua raja ka sach ki sansaar mein shohrat na hui

waqt rootha raha bacche ki tarah raah mein koi khilauna na mila
dosti ki to nibhaai na gai dushmani mein bhi adavat na hui

कुछ तबीअ'त ही मिली थी ऐसी चैन से जीने की सूरत न हुई
जिस को चाहा उसे अपना न सके जो मिला उस से मोहब्बत न हुई

जिस से जब तक मिले दिल ही से मिले दिल जो बदला तो फ़साना बदला
रस्म-ए-दुनिया को निभाने के लिए हम से रिश्तों की तिजारत न हुई

दूर से था वो कई चेहरों में पास से कोई भी वैसा न लगा
बेवफ़ाई भी उसी का था चलन फिर किसी से ये शिकायत न हुई

छोड़ कर घर को कहीं जाने से घर में रहने की इबादत थी बड़ी
झूट मशहूर हुआ राजा का सच की संसार में शोहरत न हुई

वक़्त रूठा रहा बच्चे की तरह राह में कोई खिलौना न मिला
दोस्ती की तो निभाई न गई दुश्मनी में भी अदावत न हुई

- Nida Fazli
1 Like

Waqt Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Nida Fazli

As you were reading Shayari by Nida Fazli

Similar Writers

our suggestion based on Nida Fazli

Similar Moods

As you were reading Waqt Shayari Shayari