apni marzi se kahaan apne safar ke hum hain | अपनी मर्ज़ी से कहाँ अपने सफ़र के हम हैं - Nida Fazli

apni marzi se kahaan apne safar ke hum hain
rukh hawaon ka jidhar ka hai udhar ke hum hain

pehle har cheez thi apni magar ab lagta hai
apne hi ghar mein kisi doosre ghar ke hum hain

waqt ke saath hai mitti ka safar sadiyon se
kis ko maaloom kahaan ke hain kidhar ke hum hain

chalte rahte hain ki chalna hai musaafir ka naseeb
sochte rahte hain kis raahguzar ke hum hain

hum wahan hain jahaan kuch bhi nahin rasta na dayaar
apne hi khoye hue shaam o sehar ke hum hain

gintiyon mein hi gine jaate hain har daur mein hum
har qalamkaar ki be-naam khabar ke hum hain

अपनी मर्ज़ी से कहाँ अपने सफ़र के हम हैं
रुख़ हवाओं का जिधर का है उधर के हम हैं

पहले हर चीज़ थी अपनी मगर अब लगता है
अपने ही घर में किसी दूसरे घर के हम हैं

वक़्त के साथ है मिटी का सफ़र सदियों से
किस को मालूम कहाँ के हैं किधर के हम हैं

चलते रहते हैं कि चलना है मुसाफ़िर का नसीब
सोचते रहते हैं किस राहगुज़र के हम हैं

हम वहाँ हैं जहाँ कुछ भी नहीं रस्ता न दयार
अपने ही खोए हुए शाम ओ सहर के हम हैं

गिनतियों में ही गिने जाते हैं हर दौर में हम
हर क़लमकार की बे-नाम ख़बर के हम हैं

- Nida Fazli
13 Likes

Ghar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Nida Fazli

As you were reading Shayari by Nida Fazli

Similar Writers

our suggestion based on Nida Fazli

Similar Moods

As you were reading Ghar Shayari Shayari