nasha nashe ke liye hai azaab mein shaamil | नशा नशे के लिए है अज़ाब में शामिल - Nida Fazli

nasha nashe ke liye hai azaab mein shaamil
kisi ki yaad ko kijeye sharaab mein shaamil

har ik talash yahan faaslon se raushan hai
haqeeqaten kahaan hoti hain khwaab mein shaamil

vo tum nahin ho to phir kaun tha vo tum jaisa
kisi ka zikr to tha har kitaab mein shaamil

hamein bhi shauq hai apni taraf se jeene ka
hamaara naam bhi kijeye i'taab mein shaamil

akela kamre mein gul-daan bolte kab hain
tumhaare hont hain shaayad gulaab mein shaamil

zameen roz kahaan mo'jiza dikhaati hai
meri nigaah bhi hogi naqaab mein shaamil

usi ka naam hai naghma usi ka naam ghazal
vo ik sukoon jo hai iztiraab mein shaamil

नशा नशे के लिए है अज़ाब में शामिल
किसी की याद को कीजे शराब में शामिल

हर इक तलाश यहाँ फ़ासलों से रौशन है
हक़ीक़तें कहाँ होती हैं ख़्वाब में शामिल

वो तुम नहीं हो तो फिर कौन था वो तुम जैसा
किसी का ज़िक्र तो था हर किताब में शामिल

हमें भी शौक़ है अपनी तरफ़ से जीने का
हमारा नाम भी कीजे इ'ताब में शामिल

अकेले कमरे में गुल-दान बोलते कब हैं
तुम्हारे होंट हैं शायद गुलाब में शामिल

ज़मीन रोज़ कहाँ मो'जिज़ा दिखाती है
मिरी निगाह भी होगी नक़ाब में शामिल

उसी का नाम है नग़्मा उसी का नाम ग़ज़ल
वो इक सुकून जो है इज़्तिराब में शामिल

- Nida Fazli
1 Like

Alone Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Nida Fazli

As you were reading Shayari by Nida Fazli

Similar Writers

our suggestion based on Nida Fazli

Similar Moods

As you were reading Alone Shayari Shayari