insaan mein haiwaan yahan bhi hai wahan bhi | इंसान में हैवान यहाँ भी है वहाँ भी - Nida Fazli

insaan mein haiwaan yahan bhi hai wahan bhi
allah nigahbaan yahan bhi hai wahan bhi

khoon-khwaar darindon ke faqat naam alag hain
har shehar bayaabaan yahan bhi hai wahan bhi

hindu bhi sukoon se hai musalmaan bhi sukoon se
insaan pareshaan yahan bhi hai wahan bhi

rehmaan ki rahmat ho ki bhagwaan ki moorat
har khel ka maidaan yahan bhi hai wahan bhi

uthata hai dil-o-jaan se dhuaan dono taraf hi
ye meer ka deewaan yahan bhi hai wahan bhi

इंसान में हैवान यहाँ भी है वहाँ भी
अल्लाह निगहबान यहाँ भी है वहाँ भी

ख़ूँ-ख़्वार दरिंदों के फ़क़त नाम अलग हैं
हर शहर बयाबान यहाँ भी है वहाँ भी

हिन्दू भी सुकूँ से है मुसलमाँ भी सुकूँ से
इंसान परेशान यहाँ भी है वहाँ भी

रहमान की रहमत हो कि भगवान की मूरत
हर खेल का मैदान यहाँ भी है वहाँ भी

उठता है दिल-ओ-जाँ से धुआँ दोनों तरफ़ ही
ये 'मीर' का दीवान यहाँ भी है वहाँ भी

- Nida Fazli
1 Like

Peace Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Nida Fazli

As you were reading Shayari by Nida Fazli

Similar Writers

our suggestion based on Nida Fazli

Similar Moods

As you were reading Peace Shayari Shayari