bheed hai logon kii har-soo aashna koii nahin | भीड़ है लोगों की हर-सू आश्ना कोई नहीं - Nusrat Siddiqui

bheed hai logon kii har-soo aashna koii nahin
main kise awaaz doon pahchaanta koii nahin

an-ginat patte gire pedon se ashkon kii tarah
ab kii rut mein haadson kii intiha koii nahin

भीड़ है लोगों की हर-सू आश्ना कोई नहीं
मैं किसे आवाज़ दूँ पहचानता कोई नहीं

अन-गिनत पत्ते गिरे पेड़ों से अश्कों की तरह
अब की रुत में हादसों की इंतिहा कोई नहीं

- Nusrat Siddiqui
8 Likes

More by Nusrat Siddiqui

As you were reading Shayari by Nusrat Siddiqui

Similar Writers

our suggestion based on Nusrat Siddiqui

Similar Moods

As you were reading undefined Shayari