ashk aankh mein phir atak raha hai | अश्क आँख में फिर अटक रहा है - Parveen Shakir

ashk aankh mein phir atak raha hai
kankar sa koi khatk raha hai

main us ke khayal se gurezaan
vo meri sada jhatak raha hai

tahreer usi ki hai magar dil
khat padhte hue atak raha hai

hain phone pe kis ke saath baatein
aur zehan kahaan bhatk raha hai

sadiyon se safar mein hai samundar
saahil pe thakan tapak raha hai

ik chaand saleeb-e-shaakh-e-gul par
baali ki tarah latk raha hai

अश्क आँख में फिर अटक रहा है
कंकर सा कोई खटक रहा है

मैं उस के ख़याल से गुरेज़ाँ
वो मेरी सदा झटक रहा है

तहरीर उसी की है मगर दिल
ख़त पढ़ते हुए अटक रहा है

हैं फ़ोन पे किस के साथ बातें
और ज़ेहन कहाँ भटक रहा है

सदियों से सफ़र में है समुंदर
साहिल पे थकन टपक रहा है

इक चाँद सलीब-ए-शाख़-ए-गुल पर
बाली की तरह लटक रहा है

- Parveen Shakir
2 Likes

Aawargi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Parveen Shakir

As you were reading Shayari by Parveen Shakir

Similar Writers

our suggestion based on Parveen Shakir

Similar Moods

As you were reading Aawargi Shayari Shayari