pa-b-gil sab hain rihaai ki kare tadbeer kaun | पा-ब-गिल सब हैं रिहाई की करे तदबीर कौन - Parveen Shakir

pa-b-gil sab hain rihaai ki kare tadbeer kaun
dast-basta shehar mein khole meri zanjeer kaun

mera sar haazir hai lekin mera munsif dekh le
kar raha hai meri fard-e-jurm ko tahreer kaun

aaj darwaazon pe dastak jaani pahchaani si hai
aaj mere naam laata hai meri taazeer kaun

koi maqtal ko gaya tha muddaton pehle magar
hai dar-e-khema pe ab tak soorat-e-tasveer kaun

meri chadar to chhini thi shaam ki tanhaai mein
be-ridaai ko meri phir de gaya tashheer kaun

sach jahaan paa-basta mulzim ke katihare mein mile
us adaalat mein sunega adl ki tafseer kaun

neend jab khwaabon se pyaari ho to aise ahad mein
khwaab dekhe kaun aur khwaabon ko de ta'beer kaun

ret abhi pichhle makaanon ki na waapas aayi thi
phir lab-e-saahil gharaunda kar gaya ta'aamir kaun

saare rishte hijraton mein saath dete hain to phir
shehar se jaate hue hota hai daman-geer kaun

dushmanon ke saath mere dost bhi azaad hain
dekhna hai kheenchta hai mujh pe pehla teer kaun

पा-ब-गिल सब हैं रिहाई की करे तदबीर कौन
दस्त-बस्ता शहर में खोले मिरी ज़ंजीर कौन

मेरा सर हाज़िर है लेकिन मेरा मुंसिफ़ देख ले
कर रहा है मेरी फ़र्द-ए-जुर्म को तहरीर कौन

आज दरवाज़ों पे दस्तक जानी पहचानी सी है
आज मेरे नाम लाता है मिरी ताज़ीर कौन

कोई मक़्तल को गया था मुद्दतों पहले मगर
है दर-ए-ख़ेमा पे अब तक सूरत-ए-तस्वीर कौन

मेरी चादर तो छिनी थी शाम की तन्हाई में
बे-रिदाई को मिरी फिर दे गया तश्हीर कौन

सच जहाँ पा-बस्ता मुल्ज़िम के कटहरे में मिले
उस अदालत में सुनेगा अद्ल की तफ़्सीर कौन

नींद जब ख़्वाबों से प्यारी हो तो ऐसे अहद में
ख़्वाब देखे कौन और ख़्वाबों को दे ता'बीर कौन

रेत अभी पिछले मकानों की न वापस आई थी
फिर लब-ए-साहिल घरौंदा कर गया ता'मीर कौन

सारे रिश्ते हिजरतों में साथ देते हैं तो फिर
शहर से जाते हुए होता है दामन-गीर कौन

दुश्मनों के साथ मेरे दोस्त भी आज़ाद हैं
देखना है खींचता है मुझ पे पहला तीर कौन

- Parveen Shakir
2 Likes

Rahbar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Parveen Shakir

As you were reading Shayari by Parveen Shakir

Similar Writers

our suggestion based on Parveen Shakir

Similar Moods

As you were reading Rahbar Shayari Shayari