apne haathon ki lakeeron mein saja le mujh ko | अपने हाथों की लकीरों में सजा ले मुझ को - Qateel Shifai

apne haathon ki lakeeron mein saja le mujh ko
main hoon tera tu naseeb apna bana le mujh ko

main jo kaanta hoon to chal mujh se bacha kar daaman
main hoongar phool to jude mein saja le mujh ko

tark-e-ulft ki qasam bhi koi hoti hai qasam
tu kabhi yaad to kar bhoolne waale mujh ko

mujh se tu poochne aaya hai wafa ke maani
ye tiri saada-dili maar na dale mujh ko

main samundar bhi hoon moti bhi hoon ghota-zan bhi
koi bhi naam mera le ke bula le mujh ko

tu ne dekha nahin aaine se aage kuch bhi
khud-parasti mein kahi tu na ganwa le mujh ko

baandh kar sang-e-wafa kar diya tu ne gharkaab
kaun aisa hai jo ab dhoondh nikale mujh ko

khud ko main baant na daaloon kahi daaman daaman
kar diya tu ne agar mere hawaale mujh ko

main khule dar ke kisi ghar ka hoon saamaan pyaare
tu dabe-paav kabhi aa ke chura le mujh ko

kal ki baat aur hai main ab sa rahoon ya na rahoon
jitna jee chahe tira aaj sata le mujh ko

vaada phir vaada hai main zahar bhi pee jaaun qatil
shart ye hai koi baanhon mein sambhaale mujh ko

अपने हाथों की लकीरों में सजा ले मुझ को
मैं हूं तेरा तू नसीब अपना बना ले मुझ को

मैं जो कांटा हूं तो चल मुझ से बचा कर दामन
मैं हूंगर फूल तो जूड़े में सजा ले मुझ को

तर्क-ए-उल्फ़त की क़सम भी कोई होती है क़सम
तू कभी याद तो कर भूलने वाले मुझ को

मुझ से तू पूछने आया है वफ़ा के मा'नी
ये तिरी सादा-दिली मार न डाले मुझ को

मैं समुंदर भी हूं मोती भी हूं ग़ोता-ज़न भी
कोई भी नाम मिरा ले के बुला ले मुझ को

तू ने देखा नहीं आईने से आगे कुछ भी
ख़ुद-परस्ती में कहीं तू न गंवा ले मुझ को

बांध कर संग-ए-वफ़ा कर दिया तू ने ग़र्क़ाब
कौन ऐसा है जो अब ढूंढ़ निकाले मुझ को

ख़ुद को मैं बांट न डालूं कहीं दामन दामन
कर दिया तू ने अगर मेरे हवाले मुझ को

मैं खुले दर के किसी घर का हूं सामां प्यारे
तू दबे-पांव कभी आ के चुरा ले मुझ को

कल की बात और है मैं अब सा रहूं या न रहूं
जितना जी चाहे तिरा आज सता ले मुझ को

वादा फिर वादा है मैं ज़हर भी पी जाऊं 'क़तील'
शर्त ये है कोई बांहों में संभाले मुझ को

- Qateel Shifai
6 Likes

Samundar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Qateel Shifai

As you were reading Shayari by Qateel Shifai

Similar Writers

our suggestion based on Qateel Shifai

Similar Moods

As you were reading Samundar Shayari Shayari