kisi din zindagaani mein karishma kyun nahin hota | किसी दिन ज़िंदगानी में करिश्मा क्यूं नहीं होता - Rajesh Reddy

kisi din zindagaani mein karishma kyun nahin hota
main har din jaag to jaata hoon zinda kyun nahin hota

meri ik zindagi ke kitne hisse-daar hain lekin
kisi ki zindagi mein mera hissa kyun nahin hota

jahaan mein yoon to hone ko bahut kuch hota rehta hai
main jaisa sochta hoon kuch bhi waisa kyun nahin hota

hamesha tanj karte hain tabeeyat poochne waale
tum achha kyun nahin karte main achha kyun nahin hota

zamaane bhar ke logon ko kiya hai mubtala tu ne
jo tera ho gaya tu bhi usi ka kyun nahin hota

किसी दिन ज़िंदगानी में करिश्मा क्यूं नहीं होता
मैं हर दिन जाग तो जाता हूं ज़िंदा क्यूं नहीं होता

मिरी इक ज़िंदगी के कितने हिस्से-दार हैं लेकिन
किसी की ज़िंदगी में मेरा हिस्सा क्यूं नहीं होता

जहां में यूं तो होने को बहुत कुछ होता रहता है
मैं जैसा सोचता हूं कुछ भी वैसा क्यूं नहीं होता

हमेशा तंज़ करते हैं तबीअत पूछने वाले
तुम अच्छा क्यूं नहीं करते मैं अच्छा क्यूं नहीं होता

ज़माने भर के लोगों को किया है मुब्तला तू ने
जो तेरा हो गया तू भी उसी का क्यूं नहीं होता

- Rajesh Reddy
13 Likes

Partition Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rajesh Reddy

As you were reading Shayari by Rajesh Reddy

Similar Writers

our suggestion based on Rajesh Reddy

Similar Moods

As you were reading Partition Shayari Shayari