har ek phool ke daaman mein khaar kaisa hai | हर एक फूल के दामन में ख़ार कैसा है - Sahir Hoshiyarpur

har ek phool ke daaman mein khaar kaisa hai
bataaye kaun ki rang-e-bahaar kaisa hai

vo saamne the to dil ko sukoon na tha haasil
chale gaye hain to ab be-qaraar kaisa hai

yaqeen tha ki na aayega mujh se milne koi
to phir ye dil ko mere intizaar kaisa hai

agar kisi ne tumhaara bhi dil nahin toda
to aansuon ka ravaan aabshaar kaisa hai

mujhe khabar hai ki hai be-wafa bhi zalim bhi
magar wafa ka tiri e'tibaar kaisa hai

tire makaan ki deewaar par jo hai chaspaan
talash kis ki hai ye ishtehaar kaisa hai

ye kis ke khoon se hai daaman-e-chaman rangeen
ye surkh phool sar-e-shaakh-daar kaisa hai

ab un ki barq-e-nazar ko dikhaao aaina
vo poochte hain dil-e-be-qaraar kaisa hai

meri khabar to kisi ko nahin magar akhtar
zamaana apne liye hoshiyaar kaisa hai

हर एक फूल के दामन में ख़ार कैसा है
बताए कौन कि रंग-ए-बहार कैसा है

वो सामने थे तो दिल को सुकूँ न था हासिल
चले गए हैं तो अब बे-क़रार कैसा है

यक़ीन था कि न आएगा मुझ से मिलने कोई
तो फिर ये दिल को मिरे इंतिज़ार कैसा है

अगर किसी ने तुम्हारा भी दिल नहीं तोड़ा
तो आँसुओं का रवाँ आबशार कैसा है

मुझे ख़बर है कि है बे-वफ़ा भी ज़ालिम भी
मगर वफ़ा का तिरी ए'तिबार कैसा है

तिरे मकान की दीवार पर जो है चस्पाँ
तलाश किस की है ये इश्तिहार कैसा है

ये किस के ख़ून से है दामन-ए-चमन रंगीं
ये सुर्ख़ फूल सर-ए-शाख़-दार कैसा है

अब उन की बर्क़-ए-नज़र को दिखाओ आईना
वो पूछते हैं दिल-ए-बे-क़रार कैसा है

मिरी ख़बर तो किसी को नहीं मगर 'अख़्तर'
ज़माना अपने लिए होशियार कैसा है

- Sahir Hoshiyarpur
0 Likes

Phool Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Sahir Hoshiyarpur

As you were reading Shayari by Sahir Hoshiyarpur

Similar Writers

our suggestion based on Sahir Hoshiyarpur

Similar Moods

As you were reading Phool Shayari Shayari