rona-dhona sirf dikhaava hota hai | रोना-धोना सिर्फ़ दिखावा होता है - Shariq Kaifi

rona-dhona sirf dikhaava hota hai
kaun mere jaane se tanhaa hota hai

uski tees nahin jaati hai saari umar
pehla dhoka pehla dhoka hota hai

naam bhi uska yaad nahin rakh paate ham
galiyaan galiyaan jisepukaara hota hai

saari baatein yaad hamein aa jaati hai
lekin jab vo uthne waala hota hai

mar jaata hai tanj bhare ik jumle se
koi-koi to itna zinda hota hai

aansoo bhi ham kharch wahin par karte hain
jahaan koi dil rakhne waala hota hai

bematlab ki bheed lagaane waalon se
jaane waala aur akela hota hai

ghar mein ise mehsoos karo ya sehra mein
sannaata to bas sannaata hota hai

achhe chehre achhe chehre hote hain
un mein bhi ik apna waala hota hai

रोना-धोना सिर्फ़ दिखावा होता है
कौन मिरे जाने से तन्हा होता है

उसकी टीस नहीं जाती है सारी उमर
पहला धोका पहला धोका होता है

नाम भी उसका याद नहीं रख पाते हम
गलियां गलियां जिसेपुकारा होता है

सारी बातें याद हमें आ जाती है
लेकिन जब वो उठने वाला होता है

मर जाता है तन्ज़ भरे इक जुमले से
कोई-कोई तो इतना ज़िन्दा होता है

आंसू भी हम खर्च वहीं पर करते हैं
जहां कोई दिल रखने वाला होता है

बेमतलब की भीड़ लगाने वालों से
जाने वाला और अकेला होता है

घर में इसे महसूस करो या सहरा में
सन्नाटा तो बस सन्नाटा होता है

अच्छे चेहरे अच्छे चेहरे होते हैं
उन में भी इक अपना वाला होता है

- Shariq Kaifi
15 Likes

Sad Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Shariq Kaifi

As you were reading Shayari by Shariq Kaifi

Similar Writers

our suggestion based on Shariq Kaifi

Similar Moods

As you were reading Sad Shayari Shayari