udaas hain sab pata nahin ghar mein kya hua hai | उदास हैं सब पता नहीं घर में क्या हुआ है - Shariq Kaifi

udaas hain sab pata nahin ghar mein kya hua hai
hamaara itna khayal kyun rakha ja raha hai

kuchh itna khush-fahm ho gaya hoon ki apna chehra
paraai aankhon se jab bhi dekha bura laga hai

abhi to achhi lagegi kuchh din judaai ki rut
abhi hamaare liye ye sab kuchh naya naya hai

khushi hui thi ki ab main tanhaa nahin hoon lekin
ye shakhs to mere saath chalta hi ja raha hai

mujhe to is baat ki khushi hai ki ab bhi mujh mein
kisi pe bhi e'tibaar karne ka hausla hai

उदास हैं सब पता नहीं घर में क्या हुआ है
हमारा इतना ख़याल क्यूँ रक्खा जा रहा है

कुछ इतना ख़ुश-फ़हम हो गया हूँ कि अपना चेहरा
पराई आँखों से जब भी देखा बुरा लगा है

अभी तो अच्छी लगेगी कुछ दिन जुदाई की रुत
अभी हमारे लिए ये सब कुछ नया नया है

ख़ुशी हुई थी कि अब मैं तन्हा नहीं हूँ लेकिन
ये शख़्स तो मेरे साथ चलता ही जा रहा है

मुझे तो इस बात की ख़ुशी है कि अब भी मुझ में
किसी पे भी ए'तिबार करने का हौसला है

- Shariq Kaifi
6 Likes

Khafa Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Shariq Kaifi

As you were reading Shayari by Shariq Kaifi

Similar Writers

our suggestion based on Shariq Kaifi

Similar Moods

As you were reading Khafa Shayari Shayari