vo din bhi the ki in aankhon mein itni hairat thi | वो दिन भी थे कि इन आँखों में इतनी हैरत थी - Shariq Kaifi

vo din bhi the ki in aankhon mein itni hairat thi
tamaam baazigaaron ko meri zaroorat thi

vo baat soch ke main jis ko muddaton jeeta
bichhadte waqt bataane ki kya zaroorat thi

pata nahin ye tamanna-e-qurb kab jaagi
mujhe to sirf use sochne ki aadat thi

khamoshiyon ne pareshaan kiya to hoga magar
pukaarne ki yahi sirf ek soorat thi

gaye bhi jaan se aur koi mutmain na hua
ki phir difaa na karne ki ham pe tohmat thi

kahi pe chook rahe hain ye aaine shaayad
nahin to aks mein ab tak meri shabaahat thi

वो दिन भी थे कि इन आँखों में इतनी हैरत थी
तमाम बाज़ीगरों को मिरी ज़रूरत थी

वो बात सोच के मैं जिस को मुद्दतों जीता
बिछड़ते वक़्त बताने की क्या ज़रूरत थी

पता नहीं ये तमन्ना-ए-क़ुर्ब कब जागी
मुझे तो सिर्फ़ उसे सोचने की आदत थी

ख़मोशियों ने परेशाँ किया तो होगा मगर
पुकारने की यही सिर्फ़ एक सूरत थी

गए भी जान से और कोई मुतमइन न हुआ
कि फिर दिफ़ाअ न करने की हम पे तोहमत थी

कहीं पे चूक रहे हैं ये आईने शायद
नहीं तो अक्स में अब तक मिरी शबाहत थी

- Shariq Kaifi
1 Like

Udasi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Shariq Kaifi

As you were reading Shayari by Shariq Kaifi

Similar Writers

our suggestion based on Shariq Kaifi

Similar Moods

As you were reading Udasi Shayari Shayari