malboos jab hawa ne badan se chura liye | मल्बूस जब हवा ने बदन से चुरा लिए - Sibt Ali Saba

malboos jab hawa ne badan se chura liye
doshijzgaan-subh ne chehre chhupa liye

ham ne to apne jism pe zakhamon ke aaine
har haadse ki yaad samajh ke saja liye

mizaan-e-adl tera jhukao hai jis taraf
us samt se dilon ne bade zakham kha liye

deewaar kya giri mere khasta makaan ki
logon ne mere sehan mein raaste bana liye

logon ki chadaron pe banaati rahi vo phool
paivand us ne apni qaba mein saja liye

har marhale ke dosh pe tarkash ko dekh kar
maon ne apni god mein bacche chhupa liye

मल्बूस जब हवा ने बदन से चुरा लिए
दोशीज़गान-सुब्ह ने चेहरे छुपा लिए

हम ने तो अपने जिस्म पे ज़ख़्मों के आईने
हर हादसे की याद समझ के सजा लिए

मीज़ान-ए-अदल तेरा झुकाओ है जिस तरफ़
उस सम्त से दिलों ने बड़े ज़ख़्म खा लिए

दीवार क्या गिरी मिरे ख़स्ता मकान की
लोगों ने मेरे सेहन में रस्ते बना लिए

लोगों की चादरों पे बनाती रही वो फूल
पैवंद उस ने अपनी क़बा में सजा लिए

हर मरहले के दोश पे तरकश को देख कर
माओं ने अपनी गोद में बच्चे छुपा लिए

- Sibt Ali Saba
0 Likes

Pollution Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Sibt Ali Saba

As you were reading Shayari by Sibt Ali Saba

Similar Writers

our suggestion based on Sibt Ali Saba

Similar Moods

As you were reading Pollution Shayari Shayari