man mein sapne agar nahin hote | मन में सपने अगर नहीं होते - Uday Bhanu Hans

man mein sapne agar nahin hote
ham kabhi chaand par nahin hote

sirf jungle mein dhundhte kyun ho
bhediye ab kidhar nahin hote

kab kii duniya masaan ban jaati
is mein sha'ir agar nahin hote

kis tarah vo khuda ko paayenge
khud se jo be-khabar nahin hote

poochhte ho pata thikaana kya
ham faqeeron ke ghar nahin hote

मन में सपने अगर नहीं होते
हम कभी चाँद पर नहीं होते

सिर्फ़ जंगल में ढूँढते क्यूँ हो
भेड़िए अब किधर नहीं होते

कब की दुनिया मसान बन जाती
इस में शाइ'र अगर नहीं होते

किस तरह वो ख़ुदा को पाएँगे
ख़ुद से जो बे-ख़बर नहीं होते

पूछते हो पता ठिकाना क्या
हम फ़क़ीरों के घर नहीं होते

- Uday Bhanu Hans
0 Likes

Similar Writers

our suggestion based on Uday Bhanu Hans

Similar Moods

As you were reading undefined Shayari