bade tahammul se rafta rafta nikaalna hai | बड़े तहम्मुल से रफ़्ता रफ़्ता निकालना है - Umair Najmi

bade tahammul se rafta rafta nikaalna hai
bacha hai jo tujh mein mera hissa nikaalna hai

ye rooh barson se dafn hai tum madad karoge
badan ke malbe se is ko zinda nikaalna hai

nazar mein rakhna kahi koi gham-shanaas gaahak
mujhe sukhun bechna hai kharcha nikaalna hai

nikaal laaya hoon ek pinjare se ik parinda
ab is parinde ke dil se pinjra nikaalna hai

ye tees barson se kuchh baras peeche chal rahi hai
mujhe ghadi ka kharab purza nikaalna hai

khayal hai khaandaan ko ittilaa de doon
jo kat gaya us shajar ka shajra nikaalna hai

main ek kirdaar se bada tang hoon qalamkaar
mujhe kahaani mein daal gussa nikaalna hai

बड़े तहम्मुल से रफ़्ता रफ़्ता निकालना है
बचा है जो तुझ में मेरा हिस्सा निकालना है

ये रूह बरसों से दफ़्न है तुम मदद करोगे
बदन के मलबे से इस को ज़िंदा निकालना है

नज़र में रखना कहीं कोई ग़म-शनास गाहक
मुझे सुख़न बेचना है ख़र्चा निकालना है

निकाल लाया हूँ एक पिंजरे से इक परिंदा
अब इस परिंदे के दिल से पिंजरा निकालना है

ये तीस बरसों से कुछ बरस पीछे चल रही है
मुझे घड़ी का ख़राब पुर्ज़ा निकालना है

ख़याल है ख़ानदान को इत्तिलाअ दे दूँ
जो कट गया उस शजर का शजरा निकालना है

मैं एक किरदार से बड़ा तंग हूँ क़लमकार
मुझे कहानी में डाल ग़ुस्सा निकालना है

- Umair Najmi
32 Likes

Sabr Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Umair Najmi

As you were reading Shayari by Umair Najmi

Similar Writers

our suggestion based on Umair Najmi

Similar Moods

As you were reading Sabr Shayari Shayari