meri bhanwon ke ain darmiyaan ban gaya | मिरी भँवों के ऐन दरमियान बन गया - Umair Najmi

meri bhanwon ke ain darmiyaan ban gaya
jabeen pe intizaar ka nishaan ban gaya

suna hua tha hijr mustaqil tanaav hai
wahi hua mera badan kamaan ban gaya

muheeb chup mein aahaton ka waahima hawa
main sar se paanv tak tamaam kaan ban gaya

hawa se raushni se raabta nahin raha
jidhar theen khidkiyaan udhar makaan ban gaya

shuruat din se ghar main sun raha tha is liye
sukoot meri maadri zabaan ban gaya

aur ek din khinchi hui lakeer mit gai
gumaan yaqeen bana yaqeen gumaan ban gaya

kai khafif gham mile malaal ban gaye
zara zara si katarno se thaan ban gaya

mere badon ne aadatan chuna tha ek dasht
vo bas gaya raheem yaar-khan ban gaya

मिरी भँवों के ऐन दरमियान बन गया
जबीं पे इंतिज़ार का निशान बन गया

सुना हुआ था हिज्र मुस्तक़िल तनाव है
वही हुआ मिरा बदन कमान बन गया

मुहीब चुप में आहटों का वाहिमा हवा
मैं सर से पाँव तक तमाम कान बन गया

हवा से रौशनी से राब्ता नहीं रहा
जिधर थीं खिड़कियाँ उधर मकान बन गया

शुरूअ' दिन से घर मैं सुन रहा था इस लिए
सुकूत मेरी मादरी ज़बान बन गया

और एक दिन खिंची हुई लकीर मिट गई
गुमाँ यक़ीं बना यक़ीं गुमान बन गया

कई ख़फ़ीफ़ ग़म मिले मलाल बन गए
ज़रा ज़रा सी कतरनों से थान बन गया

मिरे बड़ों ने आदतन चुना था एक दश्त
वो बस गया 'रहीम' यार-ख़ान बन गया

- Umair Najmi
9 Likes

Kamar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Umair Najmi

As you were reading Shayari by Umair Najmi

Similar Writers

our suggestion based on Umair Najmi

Similar Moods

As you were reading Kamar Shayari Shayari