nekiyon ke zumre mein bhi ye kaam kar jaao | नेकियों के ज़ुमरे में भी ये काम कर जाओ - Unknown

nekiyon ke zumre mein bhi ye kaam kar jaao
muskuraa ke thoda sa mere zakham bhar jaao

kitne gham-badaam ho subh se pareshaan ho
shaam aane waali hai ab utho sanwar jaao

zindagi jo karne hai muskuraa ke din kaato
warna sab se munh modo zahar kha ke mar jaao

go-mago mein zahmat hai sochna qayamat hai
jis taraf kahe jazba be-dhadak udhar jaao

sach bhi ab fasana hai haaye kya zamaana hai
sab ko phool do lekin aap be-samar jaao

vo bhi sehama sehama hai pyaar ke nataaej se
behtareen mauqa hai tum bhi ik mukar jaao

main to raat kaatoonunga ghoom-fir ke sadkon par
koi muntazir hoga tum to apne ghar jaao

नेकियों के ज़ुमरे में भी ये काम कर जाओ
मुस्कुरा के थोड़ा सा मेरे ज़ख़्म भर जाओ

कितने ग़म-बदामाँ हो सुब्ह से परेशाँ हो
शाम आने वाली है अब उठो सँवर जाओ

ज़िंदगी जो करनी है मुस्कुरा के दिन काटो
वर्ना सब से मुँह मोड़ो ज़हर खा के मर जाओ

गो-मगो में ज़हमत है सोचना क़यामत है
जिस तरफ़ कहे जज़्बा बे-धड़क उधर जाओ

सच भी अब फ़साना है हाए क्या ज़माना है
सब को फूल दो लेकिन आप बे-समर जाओ

वो भी सहमा सहमा है प्यार के नताएज से
बेहतरीन मौक़ा है तुम भी इक मुकर जाओ

मैं तो रात काटूँगा घूम-फिर के सड़कों पर
कोई मुंतज़िर होगा तुम तो अपने घर जाओ

- Unknown
5 Likes

Good night Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Unknown

As you were reading Shayari by Unknown

Similar Writers

our suggestion based on Unknown

Similar Moods

As you were reading Good night Shayari Shayari